WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

13 फरवरी 2024 कक्षा 10 गणित पेपर वार्षिक परीक्षा 2024 एमपी बोर्ड

गणित एक ऐसा विषय है जिस पर कोई भी व्यक्ति पेपर के वायरल होने पर भी कुछ नहीं कर सकता थोड़े बहुत विकल्प ही हासिल कर सकता है मगर पेपर वायरल होने के बाद भी इसके प्रश्नों को सॉल्व करना आसान नहीं है । गणित विद्यार्थी केवल तभी हल कर सकते हैं जब उनकी प्रेक्टिस उन प्रश्नों पर अच्छी होती है और वह उसकी अच्छी तैयारी कर बैठे हैं ।

13 फरवरी 2024 को गणित के पेपर के अंतर्गत विद्यार्थियों को किस तरीके से सावधानियां रखना चाहिए और पेपर को सॉल्व करना चाहिए इसके बारे में चर्चा करेंगे । आज के आर्टिकल में प्रमुख रूप से बात करेंगे की सोशल मीडिया पर किस तरह से विद्यार्थियों को गुमराह किया जाता है जो की एक तरह से सच नहीं होता है मगर सच होने का दवा पूरा किया जाता है ।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

नए पैटर्न पर आएगा पेपर –

यह बात तो सच है कि 2024 में होने वाले गणित के पेपर नए पैटर्न पर ही आधारित रहेंगे लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि जो पैटर्न ब्लूप्रिंट में दिया गया है उससे थोड़ा बहुत बदल जाए। जैसा ब्लूप्रिंट में दावा किया गया है वैसे ही प्रश्न देखने को मिलेंगे इससे अलग कुछ भी देखने को नहीं मिलेगा । पैटर्न के आधार पर विद्यार्थियों को बहुत फायदा होता है क्योंकि विद्यार्थी केवल वही प्रश्न तैयार करते हैं जो परीक्षा के स्तर से पूछे जाएंगे इसीलिए सभी विद्यार्थियों को आवश्यक है कि पैटर्न देखकर ही पढ़ाई करें।

पुराने पेपर से विद्यार्थियों को होगा फायदा –

किसी भी परीक्षा के लिए लगभग 3 साल पुराने पेपर का पैटर्न वही होता है जो आने वाली परीक्षा के लिए बनाया जाता है हो सकता है इसमें थोड़ा बहुत बदलाव किया गया हो मगर पुराने पेपर में आने वाले प्रश्न परीक्षा की दृष्टि से बहुत महत्वपूर्ण होते हैं । पुराने पेपर के माध्यम से आपको केवल वास्तु नष्ट प्रश्न ही अलग देखने को मिलेंगे लेकिन ज्यादातर जो भी प्रश्न दो अंक से लेकर पांच अंक तक के होंगे उनमें वही प्रश्न शामिल होते हैं जो पिछली बार परीक्षा में पूछे गए थे इसीलिए पुराने पेपर का भी सहारा विद्यार्थियों के लिए बहुत फायदेमंद होता है।

स्कूल के जैसा पेपर दिखाने का दवा गलत –

एमपी बोर्ड की परीक्षा में जिस तरह से पेपर आता है ठीक वैसे ही पेपर वायरल होने का दावा किया जाता है और ठीक है वैसा पेपर है इसका दावा किया जाता है मगर यह कहीं ना कहीं गलत होता है क्योंकि ओरिजिनल पेपर कभी भी वायरल नहीं होता है। वायरल होने की खबर पूरी तरीके से झूठ होती है जिससे विद्यार्थियों को सावधान रहने की आवश्यकता है और परीक्षा पर अच्छी तैयारी और अच्छी पकड़ बनाना बहुत जरूरी है।

पेपर वायरल होने पर क्यों नहीं होता एक्शन–

बीते कई सालों से पेपर के वायरल होने की खबरें फैलाई जाती हैं मगर कहीं ना कहीं खबरें गलत होती है तो उन पर कोई एक्शन नहीं लिया जाता क्योंकि ठीक वैसा ही पेपर एडिट करके सोशल मीडिया पर वायरल कराया जाता है और यह दावा किया जाता है कि यह बोर्ड का पेपर है जबकि वह बोर्ड का पेपर नहीं होता है। पेपर के वायरल होने के बाद सरकार के द्वारा कोई एक्शन नहीं लिया जाता यह इसका सबसे बड़ा महत्वपूर्ण सवाल है अगर पेपर ओरिजिनल वायरल हो जाता है तब सरकार के द्वारा एक्शन जरूर लिया जाता है ।

Join telegram

Leave a Comment