WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

2 लाख लाडली बहनों को नहीं मिली 8वीं किस्त : कहीं आपका नाम तो नहीं, जाने कारण

दोस्तों जैसा कि आप जानते हैं लाडली बहना योजना की आठवीं किस्त माननीय मुख्यमंत्री मोहन यादव जी द्वारा 10 जनवरी को शाम 4:00 बजे लाडली बहनों के खातों में 1576 करोड़ की राशि सिंगल क्लिक के माध्यम से डाल दी गई है। लाडली बहनों के लिए माननीय मुख्यमंत्री मोहन यादव जी द्वारा पहली बार राशि ट्रांसफर की गई है इससे पहले लाडली बहनों के खातों में राशि माननीय पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह जी द्वारा ट्रांसफर की जाती रही है।

1.8 लाख लाडली बहनों को इस योजना से किया बाहर

जैसा कि आप जानते हैं लाडली बहनों की पात्र संख्या 1.31 करोड़ थी लेकिन जब आठवीं किस्त लाडली बहनों को ट्रांसफर की गई तो वह की गई 1.39 करोड़ पात्र बहनों को। इसका मतलब यह हुआ कि लगभग 1.8 लाख लाडली बहनों को अपात्र घोषित किया गया है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

क्यों किया गया 1.8 लाख लाडली बहनों को अपात्र

क्योंकि लाडली बहनों की पात्र संख्या लगभग 1.31 करोड़ थी जिनमें से लगभग 1.8 लाख लाडली बहनों को अपात्र इसीलिए घोषित किया गया क्योंकि उनकी उम्र 60 साल से अधिक हो चुकी है। अब लाडली बहना योजना के लिए पात्र अधिकतम उम्र 59 साल है। ऐसे में जो भी लाडली बहने 60 साल की उम्र की हो चुकी है उनको लाडली बहना योजना से बाहर करके, वृद्धावस्था पेंशन योजना में शामिल किया जाएगा

लगभग 2 लाख लाडली बहने वृद्धावस्था पेंशन योजना में होंगी शामिल

मीडिया द्वारा जब सवाल किया गया कि लगभग 200000 लाडली बहने अपात्र हो चुकी हैं तो उन अपात्र बहनों का क्या किया जाएगा, तो इसका जवाब आया कि जो भी लाडली बहने लाडली बहना योजना से उम्र की वजह से अपात्र हो चुकी हैं उनको वृद्धावस्था पेंशन मैं शामिल किया जाएगा और वृद्धावस्था पेंशन के फॉर्म भरने की प्रक्रिया जल्द शुरू की जाएगी।

संबंधित खबरें भी पढ़ें –

Join telegram

Leave a Comment