बागेश्वर धाम का सच क्या है? Truth of Bageshwar Dham

बागेश्वर धाम एक अद्भुत चमत्कारी दरबार है जहां पर देश-विदेश के कोने कोने से श्रद्धालु अपनी मनोकामना को लेकर आते हैं और यहां पर आए हुए सभी श्रद्धालुओं की मनोकामनाएं पूर्ण होती  हैं बागेश्वर धाम हनुमान जी महाराज का एक अद्भुत चमत्कारी दरबार है यहां का चमत्कार अद्भुत है बागेश्वर धाम पर हर मंगलवार और शनिवार के दिन लाखों लोग अपनी मनोकामना ओं को लेकर आते हैं और अपनी अर्जी को बालाजी सरकार के दरबार में रखते हैं अर्जी लगाने के लिए नारियल को लाल कपड़े में और उसके साथ में लॉन्ग को बांधकर अपनी मनोकामना के साथ बागेश्वर धाम मैं बांधते हैं अपनी मनोकामना को पूर्ण करने के लिए बागेश्वर धाम में ऐसी मान्यता है की 21 पेशी मंगलवार या शनिवार को करना जरूरी है

What is the truth of Bageshwar Dham?

बागेश्वर धाम  के पुजारी महाराज श्री धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी है महाराज जी अपनी कथाओं में बताते हैं कि उनका जीवन बहुत ही कष्ट माय गुजरा है उन्होंने भिक्षा मांग मांग कर अपने परिवार का भरण पोषण किया हैऔर दादा जी के कहने पर कथाएं किया  करते थे महाराजधीरेंद्र कृष्ण शास्त्री जी जब कथा वाचन करते हैं तो कथाओं में बताते हैं कि उनकी मां कहा करती थी कि इस संसार में कोई साथ दे या ना दे भगवान तुम्हारा साथ जरूर देंगे और महाराज जी बताते हैं की हमारा भरोसा बागेश्वर धाम पर ही रहा है वही हमारे और संसार के कष्ट हरण करने वाले हैं

बागेश्वर धाम का सच क्या है?

महाराज जी के दादाजी इस धाम के पुजारी थे और यह चमत्कारी दरबार दादा जी के पिताजी के जमाने से चला आ रहा है यहां का चमत्कार अद्भुत है यहां पर आए हुए प्रत्येक  व्यक्ति की हर मनोकामना पूर्ण होती है बागेश्वर धाम पर किसी भी प्रकार का शुल्क नहीं लिया जाता है और यहां पर निशुल्क भंडारा प्रत्येक दिन चलता है और लाखों श्रद्धालु भंडारे में शामिल होते हैं और प्रसाद के रूप में भोजन करते हैं यह भंडारा बागेश्वर बालाजी सरकार के दरबार में आई हुई चढ़ोत्तरी के द्वारा सुचारू रूप से चलता है बागेश्वर धाम में हर मंगलवार को प्रेत दरबार का आयोजन होता है जिसमें भूत प्रेत वाली अरजिया होती है

बागेश्वर धाम का इतिहास – 1986 में हुआ मंदिर का जीर्णोद्धार

दोस्तो बागेश्वर धाम एक ऐसी खंडपीठ है जो अपने भक्तों के हर कष्टों को दूर किया जाता है | बागेश्वर धाम में आने वाले हर दर्शक एक बार आने के बाद उनका बार-बार आने का मन होता है | बागेश्वर धाम आने वाले हर श्रद्धालु की हर मनोकामना पूर्ण होती है | दोस्तों बागेश्वर धाम के बारे में लोगों का मानना है कि बागेश्वर धाम की मंदिर को ‘भूत भवन’ के नाम से भी जाना जाता है | कई लोग बागेश्वर धाम की स्थिति पीठ हो चंदेल कालीन मानते हैं | सन 1986 में ग्राम गढ़ा के लोगों के द्वारा इस मंदिर का जीर्णोद्धार किया गया था | बाद में 1987 के समय बागेश्वर धाम में बाबा सेतु लाल जी महाराज जिनको भगवान दास महाराज के नाम से भी जाना जाता था | कुछ लोगों का कहना है कि भगवान दास महाराज निर्मोही चित्रकूट से दीक्षा हासिल करके बागेश्वर धाम में लौटे थे, इसके बाद बागेश्वर धाम की सेवा करना प्रारंभ कर दिया |

बागेश्वर धाम का सच – Truth of Bageshwar Dham

बागेश्वर धाम मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले के ग्राम गढ़ा गंज में स्थित है जो कि एक महत्वपूर्ण तीर्थों में से एक है | बागेश्वर धाम ग्राम गढ़ा गंज के अलावा उत्तराखंड की प्रसिद्ध नदी सरयू और गोमती इन दोनों के संगम पर एक प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है जो कि उत्तराखंड राज्य का जिला भी है |

उत्तराखंड के बागेश्वर जिले में बागेश्वर नाथ का पुराना मंदिर है जिसे उत्तराखंड की जनता’ बागनाथ’ या फिर ‘बाघनाथ’ के नाम से भी जानती है | मकर संक्रांति के समय उत्तराखंड के बागेश्वर जिले में बहुत धूमधाम से भव्य मेले का आयोजन किया जाता है | इस प्रकार बागेश्वर भारत के दो स्थानों में पड़ता है – पहला बागेश्वर उत्तराखंड राज्य के बागेश्वर जिले में स्थित है और दूसरा बागेश्वर मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले में स्थित है | मध्यप्रदेश के बागेश्वर धाम की गाथा अब देश विदेश में फैल गई है देश के कोने-कोने में बागेश्वर का नाम जाहिर हो गया है |

बागेश्वर के इतना फेमस होने के पीछे सोशल मीडिया का बहुत बड़ा हाथ है और सोशल मीडिया के द्वारा जागेश्वर धाम के पूजनीय आचार्य पंडित श्री धीरेंद्र कृष्ण जी महाराज के द्वारा चमत्कारी दरबार का आयोजन किया जाता है जिसे दिव्य दरबार भी बोला जाता है | आचार्य पंडित श्री धीरेंद्र कृष्ण जी महाराज अपने दरबार में भक्तों को उनके द्वारा पूछे जाने वाली समस्याओं को उनके बताने से पहले पर्चे पर लिख देते हैं | महाराज बताते हैं कि आपको यहां पर कितनी पेशी करनी होगी जिससे आपकी मनोकामना पूर्ण होगी और आप हर समस्या से निदान पा सकते हैं आपके ऊपर बालाजी महाराज की कृपा जरूर होगी |

बागेश्वर धाम की कथा –

दोस्तों बागेश्वर धाम में समय-समय पर बागेश्वर धाम के पुजारी पूज्य आचार्य श्री धीरेंद्र कृष्ण जी महाराज के द्वारा भव्य कथा का आयोजन किया जाता है | बागेश्वर धाम में होने वाली कथा कभी-कभी आचार्य श्री धीरेंद्र कृष्ण जी महाराज अपने संपर्क के अन्य कथा वाचक को बाहर से भी बुलाते हैं उनके द्वारा कथा सुनवाई जाती है | बागेश्वर धाम में जब भी कथा का आयोजन किया जाता है तब बागेश्वर से जुड़े हुए सभी भक्तगण बागेश्वर धाम में कथा सुनने को आते हैं | बागेश्वर धाम में जब आचार्य श्री धीरेंद्र कृष्ण जी महाराज कथा सुनाते हैं तब वह कथा में अपने जीवन से जुड़ी हुई बहुत से तथ्यों को अपने भक्तों के सामने उजागर करते हैं कथा में वह कहते हैं कि उनका जीवन बहुत ही कष्ट में गुजरा है उन्होंने बचपन मे बहुत ज्यादा दरिद्रता का सामना किया है|

बागेश्वर धाम की लीला –

दोस्तों बागेश्वर धाम की लीला अत्यंत रोचक और चमत्कारी है जिसमें बागेश्वर धाम के आयोजक पूजनीय आचार्य पंडित श्री धीरेंद्र कृष्ण जी महाराज के द्वारा जो भव्य दरबार का आयोजन किया जाता है उस दरबार में पीड़ित व्यक्तियों की समस्याओं को उनके बताने से पहले पर्चे पर लिख दिया जाता है | आचार्य श्री धीरेंद्र कृष्ण जी महाराज उनको रोगों से लड़ने का साहस देते हैं और आशीर्वाद देते हैं की बालाजी महाराज की कृपा आप पर जरूर होगी आपको समय अनुसार 7 या 5 पेशी करनी होगी |

बागेश्वर धाम की लीला इतनी अनोखी है कि देश के हर कोने में बागेश्वर धाम हर वक्त ट्रेंड करता रहता है | बागेश्वर धाम में बालाजी महाराज की लीला इतनी अटपटी है कि वहां पर आने वाले भूत प्रेत से संबंधित रोगियों की बाधा को मात्र कुछ ही समय में भगा देते हैं | ऐसा माना जाता है कि भूत प्रेत से संबंधित रोगी को यदि बागेश्वर धाम की पेशी कराई जाती है तो रोगी को पूर्ण रूप से बालाजी महाराज अपनी कृपा से ठीक कर देते हैं |

Website Home ( वेबसाइट की सभी पोस्ट ) – Click Here
———————————————————-
Telegram Channel Link – Click Here


Join telegram

Leave a Comment