बागेश्वर धाम सरकार धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री का जीवन परिचय

बागेश्वर धाम महाराज की जीवनी / जीवन परिचय, धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री का जीवन परिचय, बागेश्वर धाम सरकार धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री, बागेश्वर धाम सरकार धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री का जीवन परिचय, Biography of Bageshwar Dham Sarkar Dhirendra Krishna Shastri ( All Queries Covered )

हेलो दोस्तों आज हम आपको बागेश्वर महाराज जी के जीवन परिचय की जानकारी देने जा रहे हैं।   जिसमें हम आपको बताएंगे कि बागेश्वर महाराज जी का बचपन में किस प्रकार से जीवन बीता था। किस प्रकार उन्हें कठिनाइयों का सामना करना पड़ा । जब जाकर के आज महाराज जी को बागेश्वर बालाजी सरकार की कृपा हुआ। महाराज जी ने कितनी कठोरतम तपस्या की।

Table of Contents

बागेश्वर धाम सरकार धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री अल्प परिचय

बागेश्वर महाराज जी का उपनामधीरू
जन्म तिथि (Date of Birth)सन् 1994
उम्र (Age)28 साल
बागेश्वर महाराज जी का रंगगोरा
बागेश्वर महाराज जी की हाइट5 से 6 फीट के बीच
बागेश्वर महाराज जी के बालों का रंगकाला 
बागेश्वर महाराज जी की आंखों का रंगअच्छा है
बागेश्वर महाराज जी की कद काठीअच्छी है
बागेश्वर महाराज जी की 1 से 8वी तक की शिक्षागृह गांव गड़ा से 
बागेश्वर महाराज जी की 9 से 12वीं तक की शिक्षागंज से
बागेश्वर महाराज ने ग्रेजुएशन में क्या कियाप्राइवेट b.a. किया
बागेश्वर महाराज  की कथा की शुरुआतलगभग 10 से 12 वर्ष की उम्र से महाराज जी कथा सुनाने लगे थे 
बागेश्वर महाराज जी के बचपन के मित्र का नाम क्या हैडॉक्टर शेख मुबारक जी
बागेश्वर महाराज जी के कितने भाई  है1
बागेश्वर महाराज जी की माता का नाम क्या हैश्रीमती सरोज
बागेश्वर महाराज जी के पिता का नाम क्या हैपंडित श्री राम कृपाल जी
बागेश्वर महाराज जी की कितनी बहने हैं1
बागेश्वर मंदिर किसके लिए प्रसिद्ध हैहनुमान जी महाराज के लिए और सन्यासी बाबा के लिए
प्रत्येक वर्ष गरीब कन्याओं का विवाह कब करवाया जाता हैप्रत्येक वर्ष की महाशिवरात्रि के पर्व पर
गरीब कन्याओं के विवाह में बागेश्वर महाराज जी के द्वारा कितनी सामग्री दी जाती हैएक लाख से अधिक की सामग्री दी जाती है
बागेश्वर महाराज जी के दादाजी का नामपंडित श्री भगवानदास गर्ग 
बागेश्वर धाम कहां हैग्राम गड़ा तहसील राजनगर जिला छतरपुर मध्य प्रदेश

🛑 बागेश्वर महाराज जी की शिक्षा

बागेश्वर महाराज जी का पूरा नाम पंडित धीरेंद्र कृष्ण शास्त्री गर्ग है। बागेश्वर महाराज जी का जन्म मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले की राजनगर तहसील के अंतर्गत आने वाले ग्राम गड़ा में हुआ था। बागेश्वर महाराज जी का बचपन बड़ी ही कठिनाइयों में बीता। बागेश्वर महाराज जी के पिताजी पंडिताई करते थे। इसके अलावा बागेश्वर महाराज जी के पिताजी कुछ नहीं करते थे।

  • ✔बागेश्वर महाराज जी ने आठवीं तक की पढ़ाई अपने ग्राम गड़ा में ही पूरी की। इसके बाद महाराज जी 9वी से 12वीं तक की पढ़ाई गंज से पूरी की। इसके बाद महाराज जी ने प्राइवेट b.a. किया।
  • ✔महाराज जी जब स्कूल में पढ़ा किया करते थे तो वह स्कूल बहुत कम जाते थे लेकिन उनके ऊपर बागेश्वर बालाजी सरकार की कृपा थी । बागेश्वर महाराज जी की कृपा से आज तक कभी किसी सब्जेक्ट में फेल नहीं हुई।

🛑 बागेश्वर महाराज जी के बचपन के प्रिय मित्र शेख मुबारक जी की कहानी

बागेश्वर महाराज जी के बचपन के प्रिय मित्र शेख मुबारक जी हुआ करते थे। शेख मुबारक जी मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले की राजनगर तहसील के अंतर्गत आने वाले ग्राम चुरारन के रहने वाले हैं। शेख मुबारक जी और महाराज जी बचपन में बागेश्वर धाम में जो पहाड़ है उस पहाड़ की बालू में दिन दिन भर लेटे हुए रहते थे। वही दोनों लोग मिलकर के टक्कड़ बनाते थे और उन्हें प्रसाद के रूप में पाते थे।

Biography of Bageshwar Dham Sarkar Dhirendra Krishna Shastri
  • ⚫️बागेश्वर महाराज और उनके प्रिय मित्र शेख मुबारक जी उसी बालू में लेटे हुए सुंदरकांड का पाठ किया करते थे। बागेश्वर महाराज जी के मित्र शेख मुबारक जी के पास उस समय एक मोटरसाइकिल थी।
  • ⚫️उसी मोटरसाइकिल से शेख मुबारक जी बागेश्वर महाराज जी के पास आते थे। बागेश्वर महाराज जी के लिए शेख मुबारक जी चाय बनाते थे। यदि कभी दूध खत्म हो जाता था तो शेख मुबारक जी तुरंत गाड़ी से गंज जाते और वहां से दूध लाते  थे।
  • ⚫️इसके बाद महाराज जी के लिए चाय बनाते थे। शेख मुबारक जी के गांव चुरारन से बागेश्वर धाम की दूरी लगभग 25 किलोमीटर है। बागेश्वर महाराज और बागेश्वर महाराज जी के प्रिय मित्र शेख मुबारक जी बचपन में दोनों साथ ही रहते थे और घूमते थे।
गढ़ा, छतरपुरMaharaj’s Resident
निवास स्थानGram Gadha, Ganj Rajnagar Chhatarpur
वज़न 68KG
धनु राशिराशि चक्र
 शादीनहीं
पिनकोड471105

🛑 बागेश्वर महाराज, शेख मुबारक जी और मुन्ना पाल हीरा खोदने गए पन्ना

बागेश्वर महाराज जी और उनके मित्र शेख मुबारक जी पन्ना में हीरे खोदने के लिए भी जाते थे। एक बार महाराज जी और उनके मित्र शेख मुबारक जी  और बागेश्वर महाराज जी का सेवादार मुन्ना पाल हीरे खोदने के लिए गए। मुन्ना पाल  कहीं से गलत खाना खा पीकर के आ गया। जब मुन्ना पाल महाराज जी के पास आकर बैठ गया । तो महाराज जी को शंका हुई। सेवादार मुन्ना पाल को महाराज जी ने  बहुत समझाया कि आप दूर रहिए क्योंकि महाराज जी सुंदरकांड का पाठ किया करते थे और महाराज जी अपने नियम दिनचर्या के साथ रहते थे । बागेश्वर महाराज जी इन चीजों से बहुत बचकर के रहते थे ।

🛑 बागेश्वर महाराज और उनके मित्र और सेवादार गिरे मोटरसाइकिल से रोड पर

इसके बाद बागेश्वर महाराज जी और शेख मुबारक और महाराज जी का सेवादार मुन्ना पाल जब मोटरसाइकिल से हीरा खोद करके वापस आ रहे थे तो रास्ते में एक कुत्ते में मोटरसाइकिल मार दी। जिससे तीनों लोग गाड़ी से नीचे गिर गए गुरुजी भी गिरे और चेला भी गिरे। जिससे बागेश्वर महाराज और शेख मुबारक जी सुरक्षित थे । लेकिन मुन्ना पाल बीच रोड पर चित डरा था। इसके बाद मुन्ना पाल के महाराज जी ने हाथ और शेख मुबारक जी ने पैर पकड़े रोड से एक तरफ किया।

  • ☛गुरुजी मन ही मन सोचने लगे कि अब तो बर गई ठठरी। अब तो जेल जाना है। 307 धारा , 302 धारा लगना है और साथ में मुन्ना पाल के घर वालों को प्राण खा लेने। लेकिन भगवान की ऐसी कृपा हुई कि खून तो उसके सिर से निकल आया था और साथ में हरकतें ऐसी करें कि जैसे मर गया हो। दोनों लोग रोड के बगल में ले गए।
  • ☛शेख मुबारक जी तो कपे क्योंकि यह दिल के कमजोर थे। बागेश्वर महाराज जी शुरू से मजबूत व्यक्ति रहे। शेख मुबारक जी तो कपे विजना से । महाराज जी ने शेख मुबारक जी से कहा कि तुम ना कपो नहीं तो 1 जने तो चले गए। ऐसा ना हो कि दूसरे जने भी चले जाएं तो और दिक्कत हो जाए तुम्हें कौन समारत ।
  • ☛महाराज जी ने कहा हनुमान जी ठीक करें। चिंता मत करो। शेख मुबारक जी बोले कि चिंता काहे ना करो अगर मर गाओ  हुई  तो। यह महाराज जी ने कहा जेल होना और का होने। सभी लोगों के पेंट फट गए गिरने से । बहुत छोटे की बात है। 2009 की बात है। महाराज जी पैजामा पहनते थे शेख मुबारक की जींस का पैंट पहने थे।
बागेश्वर धाम किस जिले में है? – Bageshwar Dham Wikipediaक्लिक करें
बागेश्वर धाम दरवार कब लगता है ? – Bageshwar Dham Darwarक्लिक करें
बागेश्वर धाम में दर्शन करने का समय क्या है? : दर्शन कितने बजे मिलता है?क्लिक करें
बागेश्वर धाम का सच क्या है? Truth of Bageshwar Dhamक्लिक करें
बागेश्वर धाम टोकन कैसे मिलेगा – Bageshwar Dham Online Tokenक्लिक करें

🛑 बागेश्वर महाराज के सेवादार मुन्ना पाल की कहानी

बागेश्वर महाराज जी ने हनुमान जी महाराज से प्रार्थना की अब  ना खोद है हीरा ”  अब खाई तो खाई आगे राम दुहाई”  मुन्ना पाल के सिर में हाथ फेरा जो बागेश्वर महाराज जी को जो भी मंत्र आते थे वे सारे मंत्र पढ़े। बागेश्वर महाराज जी ने सब देवताओं को सुमर लिया। जिन देवताओं की कभी पूजा नहीं की उन्हें भी महाराज जी ने सुमरा ।

  • ☑️जिनके कभी नाम भी नहीं लिए थे सभी को महाराज जी ने सुमरा। हे नरसिंह बब्बा, हे काली माता तुझे निबुआ की माला चढ़ा है। इसे ठीक कर दे। हे बागेश्वर बालाजी लगातार 11 सुंदरकांड सुना है।
  • ☑️थोड़ी देर बाद वह उठा और उठ करके बैठ गया ।  शेख मुबारक जी को शांति मिली। अब मुन्ना पाल उठ करके बोला “धर्म करे से धन घटे पाप करे बढ़ जाए बाप, मताई,  गुरु की सेवा करे भर जवानी में मार जाय” यह मुन्ना पाल के शब्द थे।
  • ☑️बागेश्वर महाराज और शेख मुबारक जी दोनों लोग हंसने लगे कि जिंदा है। महाराज जी ने मुबारक की पीठ पर हाथ रखा और कहा आगी को लगो जिंदा है गर्या रयो। डॉक्टर मिश्रा जी के यहां मुन्ना पाल की दवाई करवाई  ।

🛑 बागेश्वर महाराज और उनके मित्र शेख मुबारक जी ने लिया संकल्प की अब हीरा नहीं खोदेगे

इसके बाद महाराज जी और शेख मुबारक जी ने संकल्प ले लिया था कि हीरा नही खोदना है। इसके बाद महाराज जी कहा की आप अपनी डॉक्टरी करो हम अपनी पंडिताई कर रहे। शेख मुबारक जी बहुत अच्छे डॉक्टर भी हैं। दोनों लोग मिलकर के बहुत घूमे ।  चित्रकूट धाम गए। जटाशंकर धाम गए। बागेश्वर महाराज और शेख मुबारक जी के बीच 10 साल की यादें हैं। महाराज जी  कहते हैं कि अब हीरे खोदने के लिए नहीं जाएंगे। वैसे भी बागेश्वर महाराज जी के ऊपर बागेश्वर बालाजी सरकार का हाथ हमेशा से ही रहा है। उनको कभी किसी चीज की कमी नहीं हुई है।

🛑 बचपन गरीबी में बीता, बचपन में आर्थिक स्थिति थी कमजोर

बागेश्वर बालाजी सरकार की कृपा से उनकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती थी। यह जरूर है कि बागेश्वर महाराज जी का बचपन का जीवन है वो काफी गरीबी में बीता है क्योंकि उनके माता-पिता के पास इतनी ज्यादा जमीन जायदाद नहीं थी कि वह रहीसी के साथ रह सके। उनके पिता जी भी कुछ काम नहीं करते थे जिससे ज्यादा रुपए घर में आ सके। उनके पिताजी भी शुरू से पंडिताई करते आ रहे हैं तो घर की स्थिति रुपयों से लेकर के, धन से लेकर की अच्छी नहीं थी । लेकिन उनके ऊपर बागेश्वर बालाजी सरकार का हाथ रहा है ।

Bageshwar Dham New Token List 2022 Check Name बागेश्वर धाम टोकन लिस्टक्लिक करें
बागेश्वर धाम गढ़ा शादी में कितना दहेज मिलता है BageshwarDhamक्लिक करें
बागेश्वर धाम शादी के लिए रजिस्ट्रेशन – Online Registrationक्लिक करें
बागेश्वर धाम के पास रेलवे स्टेशन All About Bageshwar Dhamक्लिक करें
धनवान बनने के 10 उपाय बागेश्वर धाम महाराज के वचन – Bageshwar Dhamक्लिक करें

🛑 बागेश्वर महाराज ने प्रिय मित्र शेख मुबारक जी से लिए बहन की शादी के लिए ₹20000 उधार

बागेश्वर महाराज जी की जब बहन की शादी होनी थी तो बागेश्वर महाराज जी और उनके पिताजी गांव में सेठ महाजन जो थे। उनके पास से रुपए उधार लेने के लिए गए लेकिन उनकी किसी ने सहायता नहीं की थी न ही उनको किसी ने रुपए उधार दिए इसके बाद बागेश्वर महाराज जी और उनके पिताजी और माताजी एक साथ बैठे और चर्चा हुई की रिश्तेदार भी बहुत अच्छे मिले हैं। शादी के 15 दिन रह गए हैं शादी तो करना ही है चाहे जैसे भी हो इसके बाद बागेश्वर महाराज जी को अपने बचपन के मित्र शेख मुबारक जी की याद आई ।

  • ➜ बागेश्वर महाराज जी ने शेख मुबारक जी को फोन लगाया तो शेख मुबारक जी ने उनसे कहा कि आप कल बमीठा आकर के मिलिए वहीं पर आकर के चर्चा करते हैं। इसके बाद दूसरे दिन महाराज जी ने अपने गांव से टैक्सी पकड़ी और वह सीधे बमीठा पहुंचे। बमीठा में शेख मुबारक जी आ गए थे ।

Biography of Bageshwar Dham Sarkar Dhirendra Krishna Shastri

शेख मुबारक जी ने महाराज जी को अपनी गाड़ी पर बैठाया और बमीठा के आगे पन्ना रोड पर एक पेट्रोल पंप है वहीं पर चाय की दुकान पर शेख मुबारक जी और बागेश्वर महाराज जी ने चाय पी। इसके बाद बागेश्वर महाराज जी ने बहन की शादी का पूरा वाक्या बताया कि बहन की शादी है। रिश्तेदार भी अच्छे मिले हैं और शादी के लिए रुपए घर पर नहीं है। कहीं से व्यवस्था नहीं हो पा रही है सभी सेठ लोगों ने रुपए देने से मना कर दिया है । बागेश्वर महाराज जी की आंखें डबडबाई हुई थी बागेश्वर महाराज जी के मित्र शेख मुबारक जी ने महाराज जी को ढाढस बंधाया। और उनके मित्र शेख मुबारक जी बोले कि जब तक आपका यह मित्र है आपको चिंता करने की कोई जरूरत नहीं है।

Biography of Bageshwar Dham Sarkar Dhirendra Krishna Shastri

🛑 बागेश्वर महाराज जी की बहन की शादी हुई धूमधाम से

बहन जी का विवाह बड़े धूमधाम से होगा। बागेश्वर महाराज जी के मित्र शेख मुबारक जी ने बागेश्वर महाराज जी से कहा कि आप कल बमीठा आकर के मिलिए। कल बहन जी की शादी के लिए ₹20000 की व्यवस्था कर दूंगा तो बागेश्वर महाराज जी ने कहा की जैसी ही कोई कथा कार्यक्रम वगैरह होंगे हम आपके रुपए वापस कर देंगे। बागेश्वर महाराज जी की बहन की शादी में उनके मित्र  डॉक्टर शेख मुबारक जी ने संपूर्ण दान दहेज की व्यवस्था की और बागेश्वर महाराज जी के घर ला करके रख दिया। बागेश्वर महाराज जी की बहन की शादी के दिन शेख मुबारक जी ने पंगत वगैरा सब कुछ कार्य करवाया।

  • ➤बागेश्वर महाराज जी शेख मुबारक जी ने जो ₹20000 बहन की शादी के लिए दिए थे। वह रुपए महाराज जी 2 साल के बाद चुका पाए। 2 साल तक महाराज जी का कोई काम नहीं लगा। 2 साल बाद जब उनका एक कार्यक्रम लगा तो वह सबसे पहले कार्यक्रम करके रेलवे स्टेशन आए । 
  • ➤रेलवे स्टेशन से बमीठा आए । बमीठा आ करके उन्होंने मित्र शेख मुबारक जी को फोन लगाया। शेख मुबारक जी को बमीठा आने के लिए कहा। शेख मुबारक जी बमीठा आए तो बागेश्वर महाराज जी ने उनके उधार के ₹20000 से शेख मुबारक जी को दे दिए।
  • ➤रुपए देने के बाद ही बागेश्वर महाराज जी अपने घर आए। बागेश्वर महाराज जी का कहना है कि एक ऐसा मित्र सबके जीवन में आए। एक ऐसा मित्र सबको मिले। मित्र वही होता है जो विपत्ति के समय काम आए । जो मित्र विपत्ति के समय काम नहीं आते, उनको मित्र नहीं कह सकते, उनको स्वार्थी कहते हैं। 
  • ➤जब तक आपके  पास धन होगा तो वह खाते रहेंगे, इसके बाद आपको छोड़कर भाग जाएंगे।

🛑 बागेश्वर धाम में तीन पीढ़ियों से लगता रहा है दरबार

बागेश्वर धाम में लगातार तीन पीढ़ियों से यह दरबार लगता चला आ रहा है । इसके पहले बागेश्वर महाराज जी के पूज्य दादाजी यह दरबार लगाया करते थे तो उस समय भी पूज्य दादा जी भक्तों की समस्याओं को समाधान किया करते थे। इसी प्रकार से उनके दादाजी भी मन की बात को जान लिया करते ऐसी कोई बात नहीं है कि बागेश्वर बालाजी की कृपा सिर्फ बागेश्वर महाराज जी के ऊपर है यह दरबार तीन पीढ़ियों से लगता चला रहा है।

  • ✔️बागेश्वर महाराज जी के पहले बागेश्वर धाम की ज्यादा चर्चा नहीं हुआ करती थी और ना ही इसका प्रचार प्रसार हुआ तो ज्यादा लोगों को पता नहीं रहता था। सीमित एरिया से ही लोग आते थे। 
  • ✔️लेकिन बागेश्वर महाराज जी ने दूसरे राज्यों दूसरे जिलों में दूसरे देश में कथाएं करके और दरबार लगा कर के भक्तों को जागरूक किया है और सनातन धर्म से जुड़ने का एक प्रयास किया है तो अब बागेश्वर धाम में भक्तों की संख्या हजारों से लेकर के लाखों में पहुंच गई है और मंगलवार को तो बागेश्वर धाम में 600000 से 700000 भक्त बागेश्वर बालाजी दर्शन करते हैं ।
  • ✔️इसी प्रकार से शनिवार को भी दो से तीन लाख भक्त बागेश्वर बालाजी के दर्शन करते हैं। बागेश्वर धाम में जो भी भक्त जाता है उसकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं । बागेश्वर धाम एक सिद्धपीठ आश्रम है और एक सिद्ध पीठ तीर्थ स्थल है। बागेश्वर धाम में हनुमान जी महाराज और सन्यासी बाबा की कृपा बरस रही हैं।
☑️Hotels Near Bageshwar Dham – बागेश्वर धाम के पास होटलClick Here
☑️Bageshwar Dham Ki Mahima – Chhatarpur Gadha Ganj MPClick Here
☑️खजुराहो से बागेश्वर धाम की दूरी – Bageshwar Dham MP ChhatarpurClick Here
☑️बागेश्वर धाम एमपी (म.प्र) – Bageshwar Dham MP ChhatarpurClick Here
☑️बागेश्वर धाम महाराज का घर माता पिता, भाईClick Here

🛑 बागेश्वर महाराज जी की इंग्लैंड यात्रा

बागेश्वर महाराज जी अभी कुछ ही महीने पूर्व इंग्लैंड में सत्य सनातन धर्म का प्रचार प्रसार करने के लिए गए हुए थे । बागेश्वर महाराज जी ने इंग्लैंड में अपने भक्तों को  कथाएं भी सुनाई हैं बागेश्वर महाराज जी के द्वारा इंग्लैंड में दो कथाओं का आयोजन भी किया गया था। बागेश्वर महाराज जी का कहना है कि आप जहां पर भी रहे लेकिन अपनी संस्कृति को ना भूलें। और साथ में सत्य सनातन धर्म का प्रचार प्रसार करते रहे। बागेश्वर महाराज जी को इंग्लैंड की संसद में पुरस्कृत भी किया गया था।

  • ➜बागेश्वर महाराज जी के श्री मुख से भारत के निवास करने वाले लोग भी इंग्लैंड में महाराज जी की कथा सुनने के लिए पहुंचे थे। इसके साथ ही इंग्लैंड के नागरिक भी और अंग्रेज लोग भी बागेश्वर महाराज जी की कथा का आनंद लेने के लिए पहुंचे थे।
  • ➜बागेश्वर महाराज जी के द्वारा दोनों कथाओं में दो दो दिन का  दिव्य दरबार लगाया गया था। बागेश्वर महाराज जी के दरबार में अंग्रेज भी पहुंचे थे।
  • ➜बागेश्वर महाराज जी ने और बागेश्वर बालाजी सरकार ने अंग्रेजों की अर्जी भी स्वीकार की और उनकी भी समस्याओं का समाधान किया।

🛑 बागेश्वर महाराज जी की मॉरीशस यात्रा

बागेश्वर महाराज जी मॉरीशस की यात्रा करने के लिए जुलाई के महीने में ही गए हुए थे। बागेश्वर महाराज जी ने मॉरीशस के राष्ट्रपति और मॉरीशस के प्रधानमंत्री से मुलाकात की और महाराज जी ने सत्य सनातन धर्म की के प्रचार प्रसार के लिए भी मॉरीशस के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री से बात की।

  • ✔️☛☛मॉरीशस में जल्द ही संत महाकुंभ का आयोजन किया जाएगा। क्योंकि मॉरीशस के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री ने बागेश्वर महाराज जी से कहा कि आप बागेश्वर धाम से और भारत के सभी संतो को लेकर के मॉरीशस आइएगा । इसी के साथ बागेश्वर महाराज जी ने मॉरीशस के प्रधानमंत्री को बागेश्वर धाम आने का आमंत्रण दिया। बागेश्वर धाम आने के लिए मॉरीशस के प्रधानमंत्री जी ने सहर्ष स्वीकार किया। बागेश्वर महाराज जी ने मॉरीशस पहुंच करके गंगा तालाब के दर्शन किए।
  • ✔️☛☛बागेश्वर महाराज जी ने मॉरीशस पहुंच करके देखा कि मॉरीशस की लोगों के घर के प्रत्येक दरवाजे में   2-2 ध्वजा पताका और श्री हनुमान जी की मूर्ति लगी हुई है।
  • ✔️☛☛बागेश्वर महाराज जी ने कहा कि इसी प्रकार से भारत में भी प्रत्येक हिंदू के घर के बाहर दो दो ध्वज पताका और श्री हनुमान जी महाराज की मूर्ति होना चाहिए। तभी जाकर के भारत शांति और सद्भावना बनी रहेगी। और भारत हिंदू राष्ट्र बनेगा और विश्व गुरु बनेगा।

बागेश्वर धाम सरकार धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री का जीवन परिचय FAQ’s

⏺️ बागेश्वर महाराज जी के बचपन के मित्र का नाम क्या हैं?
उत्तर- डॉक्टर शेख मुबारक ।

⏺️ बागेश्वर महाराज,शेख मुबारक और सेवादार कहा हीरा खोदने गए थे?
उत्तर- पन्ना।

⏺️ बागेश्वर धाम की सही जानकारी कहां से प्राप्त करें?
उत्तर- बागेश्वर धाम यूट्यूब चैनल और फेसबुक पेज से।

⏺️ बागेश्वर महाराज किस – किस देश यात्रा कर आए हैं?
उत्तर- इंग्लैंड और मॉरीशस।

☑️बागेश्वर धाम में टोकन की व्यवस्था – Bageshwar Dham WikipediaClick Here
☑️बागेश्वर धाम का इतिहास History Of Bageshwar Dham Chhatarpur MPClick Here
☑️बागेश्वर धाम शायरी स्टेटस | Bageshwar Dham Status ShayariClick Here
☑️बागेश्वर धाम महाराज का पता : बागेश्वर धाम का मोबाइल नंबरClick Here
☑️बागेश्वर धाम महाराज का नाम : बागेश्वर धाम महाराज की शादीClick Here
☑️बागेश्वर धाम और खजुराहो प्रसिद्ध धार्मिक एवं पर्यटन स्थलClick Here
Join telegram

Leave a Comment