WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

चुलकाना धाम हिस्ट्री इन हिंदी, चुलकाना धाम का इतिहास, मंदिर खुलने का समय

चुलकाना धाम हरियाणा राज्य की अंतर्गत पानीपत जिले के एक छोटे से गांव चुलकाना के अंतर्गत ही आता है यह पहले बहुत छोटा सा धाम था केवल एक ही मंदिर था लेकिन अब धीरे-धीरे इसका विकास हुआ और यही एक बहुत बड़ा विशाल धार्मिक तीर्थ स्थल बन गया है। समालखा धाम के बारे में जो इतिहास है और जो रहस्य है उसकी कहानी बहुत ही अलग है इसके बारे में आज की आर्टिकल में हम बात करेंगे ।

चुलकाना धाम का इतिहास –

भगवान श्री कृष्णा और घटोत्कच के पुत्र बर्बरीक के बारे में जुड़ी हुई आस्था का केंद्र बना है चुलकाना क्योंकि यहां पर वही पीपल का पेड़ है जिसके हर पत्ते में बर्बरीक के द्वारा छेद किया गया था। इस धाम के बारे में ऐसा माना जाता है जो भी दर्शन करने के लिए आता है उसकी हर मनोकामना पूरी होती है । भगवान श्री कृष्णा और घटोत्कच के पुत्र बर्बरीक से जुड़ी हुई जो कहानी हम सुनते हैं वह इस धाम से ही ली गई है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

महाभारत के युद्ध के दौरान जब बर्बरीक के द्वारा यह घोषणा की गई थी वह एक ही तीर से पूरा युद्ध ही समाप्त कर देगा और पूरे कौरवों को भी समाप्त कर देगा तो भगवान श्री कृष्ण को लगा कि अब यह युद्ध ज्यादा दिन तक नहीं टिक पाएगा और ना ही इस युद्ध का पूरा उद्देश्य हो पाएगा कहीं ना कहीं इस युद्ध के बीच बर्बरीक को रोकना बहुत उचित होगा।

आगे चलकर भगवान श्री कृष्ण ने चल से ब्राह्मण का वेश रख के बर्बरीक से उसकी योग्यता का परीक्षण कर लिया और एक तीर समाप्त कर दिया । भगवान श्री कृष्ण को लगा कि इस दुनिया में केवल तीन ही सबसे बड़े महा योद्धा हैं जो इस युद्ध को समाप्त कर सकते हैं पहले में दूसरा अर्जुन और तीसरा घटोत्कच का पुत्र बर्बरीक लेकिन इस युद्ध को बहुत आगे तक ले जाना है इसीलिए इसकी कुर्बानी बहुत आवश्यक है । आगे चलकर भगवान श्री कृष्ण ने उसकी कुर्बानी की मांग ली और कुर्बानी में जहां पर सुदर्शन के द्वारा बर्बरीक के कश्यप गिरा वह धाम उत्तर प्रदेश के बरेली में स्थित है जिसे मनोना धाम कहा जाता है ।

चुलकाना धाम में बांधा जाता है मन्नत का धागा–

चुलकाना धाम पर आने वाला हर शख्स अपनी मन्नत पूरी करने के लिए एक धागा बढ़ जाता है और ऐसा माना जाता है कि जो भी श्रद्धालु जहां पर धागा बांधकर जाता है उसकी हर मनोकामना पूरी होती है । खाटू श्याम को भगवान श्री कृष्ण के द्वारा यह आशीर्वाद मिला था कि तुम कलयुग में रहोगे और इसका प्रमाण तुम्हारा बलिदान होगा इसीलिए आज जो भी खाटू श्याम से अपनी मन्नत मांगता है उसकी हर मन्नत पूरी होती है।

हरियाणा का सबसे चर्चित और पवित्र धार्मिक तीर्थ स्थल बना चुलकाना धाम–

हमारे देश में धार्मिक मान्यताओं के इतने ज्यादा पहलू देखे जाते हैं कि उनको समझ पाना बहुत मुश्किल होता है और दूसरी चीज हमारे यहां धार्मिक तीर्थ स्थल बहुत ज्यादा है क्योंकि भगवान को मूर्ति के रूप में सबसे ज्यादा पूजने वाले लोग यहीं पर रहते हैं। भगवान श्री कृष्ण से लेकर भगवान राम तक न जाने ऐसी कितनी कहानियां मौजूद हैं जो हम प्रत्यक्ष के रूप में देख सकते हैं। हरियाणा के चुलकाना गांव में वर्तमान समय में लाखों लोग दर्शन करने के लिए जाते हैं क्योंकि यहां पर भी एक रहस्य देखने को मिलता है जिसके बारे में किसी को पता ही नहीं चलता।

Join telegram

Leave a Comment