WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

कक्षा 9 ब्यूटी वेलनेस का पेपर 19 मार्च 2024 एमपी बोर्ड

किसी पेपर के 10 घंटे पहले वायरल होने के बाद विद्यार्थियों को एक बड़ा झटका लगता है क्योंकि जो विद्यार्थी पूरे साल भर से मेहनत करता आ रहा है और उसे पता चले की 10 घंटे पहले पेपर वायरल हो गया है तो उसकी मेहनत बेकार जाएगी और वह अपनी मेहनत से पेपर तो सॉल्व कर लेगा मगर बिना मेहनत के जिसको भी पेपर मिल जाएगा वह साधारण तौर पर इस तरीके के बच्चों के परीक्षा परिणाम को प्रभावित करेगा । क्या कारण है कि पेपर वायरल हो जाते हैं और पेपर वायरल होने के बाद वह कौन लोग हैं जो असली पेपर के होने का दावा करते हैं आईए जानते हैं आज के इस आर्टिकल में।

10 घंटे पहले पेपर मिलने पर विद्यार्थियों का रिएक्शन !

जो विद्यार्थी टेलीग्राम के माध्यम से 10 घंटे पहले पेपर प्राप्त कर लेते हैं उनके लिए एक शर्त यह भी रखी जाती है कि इस तरीके के पेपर को किसी के पास नहीं भेजना है और यह केवल गुप्त रखना है। लेकिन धीरे-धीरे समय बीतता है और लोगों को इस बात का अंदाजा लग जाता है । किसी भी विषय का पेपर हो जब वायरल हो जाता है तो विद्यार्थियों को इसका बड़ा दुख होता है लेकिन ज्यादा दुख उस विद्यार्थी को होता है जो पूरे साल भर मेहनत करता है ।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

सरकार ले सकती है बड़ा फैसला –

सरकार के द्वारा कोई बड़ा फैसला लिया जा सकता है क्योंकि पहली बार पेपर वायरल नहीं हुए हैं इसके पहले भी कई बार पेपर वायरल हो गए हैं लेकिन इस बात की पोस्ट नहीं हुई है की ओरिजिनल पेपर ही हुआ है । जो पेपर वायरल होता है वह बिल्कुल ओरिजिनल पेपर की तरह दिखता है और यही वजह है कि पेपर वायरल होने के बाद कोई कार्रवाई नहीं की जाती ।

पेपर वायरल होने में सोशल मीडिया का सबसे बड़ा हाथ –

सोशल मीडिया हमारे लिए जितना फायदेमंद होता है उससे कहीं ज्यादा नुकसानदेह भी होता है क्योंकि एक तरफ विद्यार्थियों की कई तरह से सोशल मीडिया हेल्प करता है वहीं दूसरी तरफ जब पेपर वायरल हो जाता है तो उन विद्यार्थियों को बड़ी तकलीफ होती है जो पूरी साल भर मेहनत करते हैं । पेपर वायरल होने में सबसे आगे टेलीग्राम है क्योंकि टेलीग्राम पर उन लोगों के द्वारा ग्रुप बनाया जाता है जो पेपर वायरल करवाते हैं और विद्यार्थियों से लगभग एक पेपर के ₹2000 वसूलते हैं।

यूट्यूब पर विद्यार्थियों को करते हैं गुमराह –

यूट्यूब के माध्यम से कई यूट्यूबर ऐसे वीडियो बनाते हैं जिम चेहरा देखने को नहीं मिलता है लेकिन एनीमेशन के माध्यम से वह समझने का प्रयास करते हैं कि किस तरीके से आपका पेपर आएगा और जो पेपर वायरल हो गया है वह आपके यहां से भी प्राप्त हो सकता है । धीरे-धीरे यही लोग जब पेपर वायरल होने का कोई प्रमाण नहीं देते तो इनको ही दोषी ठहराया जाता है और कई बार इनको जुर्माना लग जाता है पिछली बार जब पेपर वायरल हुए थे तो कुछ लोगों को गिरफ्तार भी किया गया था।

19 मार्च को एमपी बोर्ड कक्षा 9 का ब्यूटी वेलनेस का पेपर

एमपी बोर्ड वार्षिक परीक्षा शुरू हो चुकी है। 19 मार्च को कक्षा 9 ब्यूटी वेलनेस पेपर होगा। पेपर के लिए विद्यार्थियों को मॉडल पेपर पढ़ने की सलाह माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा दी गई है। 9th कक्षा का ब्यूटी का पेपर इतना कठिन नहीं आने वाला है क्योंकि पेपर मे सरलता का प्रतिशत अधिक है। ब्यूटी वेलनेस कोर्स की शुरुआत कक्षा 9 से ही होती है इसीलिए भी पेपर को इतना कठिन नहीं बनाया जाएगा।

Join telegram

Leave a Comment