WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

जन्म दियो विधाता बुंदेलखंड में लोकगीत : लिरिक्स – गाने की सम्पूर्ण लाइनें

बुंदेलखंड एक ऐसा क्षेत्र जहां लोगों को कभी ना जाने वाले अनुभव की अनुभूति होती है | लोगों का बुंदेलखंड में बस जाने को जी चाहता है |  बुंदेलखंड में ऐसे अनेक दर्शनीय स्थल है जो बहुत ही प्रसिद्ध है जिसमें कुछ ऐतिहासिक धरोहर बहुत ही प्रशंसनीय हैं, जिनके बारे  मैं आपको बताने वाला हूं।

लोकगीत की सम्पूर्ण लिरिक्स – जन्म दियो विधाता बुंदेलखंड में लोकगीत

ऐसी माटी ना भारत के खंड खंड में।
जनम दईओ विधाता बुंदेलखंड में ।। 2
दिवस धाम ओरछा में वास करे रघुवर,
और हरदोल मैहर की माई जटाशंकर।
छीर सागर की गहराई भीमकुंड में,
सो जनम दईओ विधाता बुंदेलखंड में।2
चित्रकूट तपोभूमि पावन पुनीता,
वर्षों तक रमे रहे लखन राम सीता।
देव ललचत रय आवे बुंदेलखंड में,

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

बागेश्वर धाम महाराज श्री धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री जी महाराज ने भी गाया लोकगीत

जन्म दइयो विधाता बुंदेलखंड में लोकगीत बागेश्वर धाम महाराज श्री धीरेन्द्र कृष्ण शास्त्री जी महाराज ने भी गाया है | महाराज जी के मुख से गाए गए इस लोकगीत को सुनते ही मन मंत्र मुग्ध हो जाता है |

ऐसी माटी न भारत के खंड खंड में लोकगीत के गीतकार – रामकिशोर मुखिया जी

यह गीत रामकिशोर मुखिया जी ने लिखा है | उनके द्वारा गाए गए इस लोकगीत को सुनकर आपका मन बुंदेलखंड की विशेषताओं को सुनकर प्रफुल्लित हो जाएगा | मुखिया जी प्रख्याति का प्रमुख कारण यही बुंदेलखंड का लोकगीत है |

ऐसी माटी न भारत के खंड खंड में लिरिक्स : Lyrics गीत की सम्पूर्ण लाइनें

बुंदेलखंड की सम्पूर्ण विरासत – जिनकी इस लोकगीत : ऐसी माटी न भारत के खंड खंड में, चर्चा की गई

श्री राम राजा सरकार मंदिर ओरछा

यह बहुत ही सुंदर मंदिर है  यह राम जी का एक मंदिर है जिसे मधुकर शाह ने अपनी पत्नी के लिए बनवाया था यहां से बहती बेतवा नदी मन को मोह लेती है  मंदिर मध्य प्रदेश के निवाड़ी जिले में आता है विश्व का एकमात्र ऐसा मंदिर है जहां पर श्री राम की लिए सलामी दी जाती है।

ग्वालियर का किला

यह बहुत प्राचीन किला है जिससे किलो का  रत्न भी कहा जाता है। इसके अंदर 5 दरवाजे हैं सास बहू मंदिर और तेली का मंदिर स्थित है ग्वालियर में घाटीगांव अभ्यारण है जिसे देखने के लिए पर्यटकों की भीड़ ही लगी रहती है इसका निर्माण राजा सूरज सेन ने 525 ईसवी में कराया था।
छत्रसाल बुंदेला वंश के  प्रसिद्ध राजा छत्रसाल बहुत ही महान व्यक्ति थे बीरता के किस्से जो अपने कभी नहीं सुने। बुंदेलखंड में इनकी  एक अलग ही पहचान रही है इसके लिए नौगांव में धुबेला संग्रहालय स्थित है।

खजुराहो मंदिर

चंदेल शासकों द्वारा निर्मित यह मंदिर सारे विश्व में प्रसिद्ध है जहां पर विदेशों से पर्यटक आते हैं इन मंदिरो में  बहुत ही सुंदर मूर्तियों का अंकन किया गया है पत्थरों पर नक्काशी के लिए प्रसिद्ध साथी भव्य तालाब जो मंदिरों की सुंदरता को चार चांद लगाता है इसमें सबसे प्रसिद्ध कंदरिया महादेव मंदिर है, जो शिव को  समर्पित है।का निर्माण विद्याधर ने करवाया था यहां पहुंचना के लिए के लिए आप ट्रेन या हवाई जहाज से भी आ सकते है ।

पांडव फॉल

पन्ना हीरा नगरी जहां बना हुआ प्राकृतिक पांडव फॉल जहां पहाड़ों के ऊपर से गिरता जल पचमढ़ी से कम नहीं लगता है और उसी के अंदर पन्ना राष्ट्रीय उद्यान जहां पर हर तरह की जानवरों को देखकर मन तृप्त हो जाता है।

बुंदेलखंड के अद्भुत दर्शनीय स्थल

1. पन्ना में स्थित जुगल किशोर मंदिर जहां पर बस श्रद्धालु वही कहोगे रह जाता है इस मंदिर में मूर्ति  हीरो से जड़ी हुई है।
2. महोबा का आल्हा ऊदल महल जो उनकी वीरगाथा के लिए प्रसिद्ध है,
3. भीमकुंड छतरपुर जिले के बिजावर तहसील में एक ऐसा अद्भुत कुंड है जिसकी गहराई का कोई अंदाजा नहीं है ऐसा माना जाता है की इसका निर्माण भीम द्वारा गधा मारकर की गई थी।
4. जटाशंकर प्रसिद्ध मंदिर यह शिव का बहुत ही प्रसिद्ध मंदिर है।

Website Home ( वेबसाइट की सभी पोस्ट ) – Click Here
———————————————————-
Telegram Channel Link – Click Here

बुंदेलखंड की लोक संस्कृति

बुंदेलखंड में लोक नृत्य राई  दिवारी जहां पर भी हो रहे हो तो आप उसे एक बार अवश्य देखेगे और झूम उठेंगे। लोकगीत को सुनने से अलग ही आनंद की अनुभूति होती है |

आशा करता हूं कि आपको यह गीत आपको पसंद आया होगा अगर पसंद आया हो तो एक बार कॉमेंट करके अवश्य बताए।
धन्यवाद

Join telegram

Leave a Comment