WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

कर्पूरी ठाकुर जीवन परिचय: 2024 भारत रत्न पुरस्कार से सम्मानित कर्पूरी ठाकुर

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और पिछड़े वर्ग के लोगों के लिए वकालत करने वाले कर्पूरी ठाकुर जिनको 2024 मरण उपरांत भारत रत्न से सम्मानित किया जाएगा। कर्पूरी ठाकुर का जन्म 24 जनवरी 1924 को हुआ था। बिहार के एक उप मुख्यमंत्री और दो बार मुख्यमंत्री भी रहे कर कर्पूरी ठाकुर। कर्पूरी ठाकुर का जन्म बिहार के समस्तीपुर के गांव पितोजिया कर्पूरी ग्राम में हुआ था। कर्पूरी ठाकुर बिहार के 11 में मुख्यमंत्री बने थे। उन्होंने कई राजनीतिक दलों में काम किया सोशलिस्ट पार्टी, भारतीय क्रांति दल, जनता पार्टी, लोक दल। स्वतंत्रता सेनानी शिक्षक एवं राजनीतिज्ञ भी कर्पूरी ठाकुर जी रहे।

2024 के भारत रत्न से सम्मानित होने वाले कर्पूरी ठाकुर नाई जाति से थे। गोकुल ठाकुर पिताजी का नाम और रामदुलारी देवी उनके माता जी का नाम था।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

बिहार में इनको जननायक नाम से भी जाना जाता है। कर्पूरी ठाकुर मुख्यमंत्री रहते हुए पिछड़ों को 12% आरक्षण देने में चर्चा में भी रहे थे।

बिहार में लोकनायक नाम से जाने जाने वाले जयप्रकाश नारायण जी के बाद इन्होंने राजनीति में कदम रखा। जयप्रकाश नारायण को राजनीतिक गुरु मानने वाले कर्पूरी ठाकुर पिछड़ा वर्ग के लोगों को सरकारी नौकरी में आरक्षण दिलाने वाले आंदोलन में भी शामिल रहे थे।

कर्पूरी ठाकुर बिहार में एक बार उपमुख्यमंत्री एवं दो बार मुख्यमंत्री भी रहे और इनका यह रिकॉर्ड रहा है कि कभी भी विधानसभा का चुनाव नहीं हारे हैं। कर्पूरी ठाकुर के नक्शे कदम पर वर्तमान बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार भी चलते हैं। कुछ इसी तरह कर्पूरी ठाकुर कांग्रेस एवं समाजवादी पार्टी से संगठन गठबंधन बनाकर चलते थे और यदि सरकार मन मुताबिक काम नहीं करती थी तो गठबंधन तोड़कर भी निकल जाते थे। कर्पूरी ठाकुर का निधन 64 साल की उम्र में दिल का दौरा पड़ने से 17 फरवरी 1988 को हो गया था।

संबंधित खबरें –

Join telegram

Leave a Comment