WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

एमपी किसान कर्ज माफी की लिस्ट को लेकर राजनीति शुरू, लिस्ट में नाम नहीं तो हो जाइए सतर्क, सीएम मोहन यादव के निर्देश

मध्य प्रदेश के सभी किसानों को सतर्क रहने की आवश्यकता है क्योंकि किसान कर्ज माफी की लिस्ट को लेकर राजनीति शुरू हो चुकी है और सरकार के ऊपर भरोसा करने के बजाय अगर आप खुद पर भरोसा करेंगे और कर्ज माफी का लाभ लेने के लिए लगे रहेंगे तो आप कर्ज माफ कर पाएंगे अन्यथा हो सकता है कि आपको इस योजना का लाभ न मिले । राजनीति के चलते मध्य प्रदेश में सरकार ने एक दूसरे पर आरोप लगा रही हैं और कामना करने के बजाय अपनी-अपनी रोटियां सेकने में लगी हैं । आज के आर्टिकल में हम बात करेंगे की कर्ज माफी की लिस्ट को कैसे चेक करें और अगर आपका नाम नहीं आया है तो क्या करें?

किसान कर्ज माफी की लिस्ट आने की तारीख–

किसान कर्ज माफी की लिस्ट अभी नहीं आई है और इसके बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता लेकिन जल्दी ही किसान कर्ज माफी की लिस्ट को जारी किया जा सकता है इसके बारे में शिवराज सरकार ने आश्वासन दिया है कि किसानों का जल्दी ही कर्ज माफ किया जाएगा। आने वाले दो-तीन महीने में अथवा मार्च अप्रैल 2024 में खाद्य विभाग में खरीदी केंद्र शुरू हो जाते हैं किस वजह से किसान का कर्ज माफ होना बहुत ही जरूरी है क्योंकि यदि उनका कर्ज माफ नहीं किया गया तो किसानों का जितना उत्पादन होता है वह तो पूरी तरीके से सहकारी विभाग में जमा हो ही जाएगा और उनका कर्ज भी पूरा नहीं होगा ।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

सभी किसानों के लिए सबसे बड़ी खुशखबरी यह है कि कर्ज माफी की लिस्ट अभी नहीं आई है लेकिन जल्दी ही इस योजना का क्रियान्वयन शुरू हो सकता है क्योंकि मध्य प्रदेश विधानसभा चुनाव के परिणाम जारी कर दिए गए हैं अब जल्दी ही योजनाओं का शुभारंभ होने वाला है ।

कर्ज माफ न होने पर किसानों की प्रति क्रिया –

कर्ज माफ न होने पर मध्य प्रदेश के किसान निराश हो सकते हैं और सरकार से आशा तोड़ सकते हैं आने वाले समय में सरकार पर किसी भी प्रकार का भरोसा नहीं रहेगा और किसी तरह से सरकार की घोषणा पर कोई भरोसा नहीं रह जाएगा ।

ये भी पढ़ें –

अगर कर्ज माफ नहीं हुआ तो किसानों का क्या होगा?

मध्य प्रदेश के किसानों के ऊपर इतना कर्ज है कि कभी-कभी तो एमपी में ऐसी खबरें आ जाती हैं की कर्ज में डूब कर किसी किसान ने आत्महत्या तक कर ली है। सरकारी आंकड़ों के अनुसार सैकड़ो किसान प्रत्येक 5 साल में कर्ज में डूब कर अपनी जान गवा देते हैं अगर इस बार भी किसानों का कर्ज माफ नहीं किया गया तो किसानों के लिए बड़ी समस्या उत्पन्न हो सकती है क्योंकि एमपी में किसानों के ऊपर लगभग 5 लख रुपए तक का कर्ज माफ करने का दावा किया गया है जिस वजह से किस अभी पूरी तरीके से निश्चित हैं। अगर किसानों का 2 लाख से लेकर 5 लाख तक का कर्ज माफ नहीं किया गया तो उनके ऊपर एक आफत आ सकती ।

Join telegram

Leave a Comment