WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

मुख्यमंत्री लाड़ली लक्ष्मी योजना के अंतर्गत आवेदन करके पाएं 1.5 लाख आर्थिक मदद

बीते काफी सालों से हमारे प्रदेश में ही नहीं बल्कि भारत के कई राज्यों में जब कोई बेटी जन्म लेती थी तो उसे इतनी प्राथमिकता नहीं दी जाती थी जितना किसी बेटा के जन्म लेने पर प्राथमिकता मिलती थी । हमारे समाज में किसी भी प्रकार की कोई ऐसी प्रतिक्रिया पैदा ही ना हो जो समाज को गलत नजरिया तक ले जाए इसकी जिम्मेदारी भी सरकार की होती है। लड़कियों को लेकर आम लोगों का ज्यादातर ख्याल यह रहता है कि उनके विवाह में बहुत सारा खर्च होता है और आमतौर पर ज्यादातर लोग गरीब होते हैं या फिर आर्थिक रूप से बहुत कमजोर होते हैं ।

इस प्रकार का माहौल देखते हुए सरकार ने लाडली लक्ष्मी योजना जैसी योजना को शुरू करने का फैसला किया और इसे 2007 में शुरू कर दिया लेकिन इस योजना के शुरू करने से पहले ही सरकार नहीं है बयान दिया कि 1 जनवरी 2006 के बाद से जन्म लेने वाली लड़कियों के लिए यही योजना लाभ प्रदान करेगी। आज के आर्टिकल में हम जानेंगे की लाडली लक्ष्मी योजना क्या है और इसके माध्यम से कितनी राशि महिलाओं को लाभ के रूप में मिलती है और आवेदन किस तरीके से किया जा सकता है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

लाड़ली लक्ष्मी योजना की शुरुआत क्यों की गई–

हमारे देश में लड़कियों को पालने पहुंचने से लेकर उनकी पढ़ाई का खर्चा लोगों को बहुत महंगा लगने लगता है और सबसे महंगा लगता है उनकी शादी का खर्चा क्योंकि शादी के वक्त लड़की वाले को दहेज देना पड़ता है और महंगाई इतनी ज्यादा होती है कि मिडिल क्लास फैमिली का कोई भी व्यक्ति बहुत ज्यादा खर्च अफोर्ड नहीं कर सकता। इसलिए शिवराज सरकार की ओर से पैदा होने वाली लड़कियों को प्राथमिकता मिले और लोगों को यह ना लगे की लड़की पैदा हो गई तो कोई बहुत बड़ी समस्या पैदा हो गई। सरकार ने लड़की के पैदा होने के बाद की उसकी पूरी जिम्मेदारी उठाई और जब तक उसकी शादी ना हो जाए उसका खर्चा भी सरकार ने उठा लिया।

लाड़ली लक्ष्मी योजना के तहत मिलने वाली राशि–

मध्य प्रदेश सरकार की ओर से लाडली लक्ष्मी योजना की लाभान्वित महिलाओं को अथवा लड़कियों को 21 साल के होने तक लगभग कुल मिलाकर 143000 तक की आर्थिक सहायता प्रदान की जाती है । यह सहायता कई चरणों में होती है जैसे जब कोई लड़की छठवीं कक्षा को पास करती है तो उसे₹2000 दिए जाते हैं इसके बाद जब वह नौवीं कक्षा में पहुंच जाती है तो उसे ₹4000 की आर्थिक सहायता दी जाती है। आगे चलकर पढ़ाई का स्तर अच्छा होने के कारण और 12वीं कक्षा को पास करने के कारण₹6000 की आर्थिक आमदनी मध्य प्रदेश की लड़कियों को प्राप्त हो जाती है।

लाड़ली लक्ष्मी योजना के लिए आवश्यक उम्र सीमा –

इस योजना का लाभ ऐसी महिलाओं को दिया जाता है जो 21 वर्ष तक इस योजना के शर्तों के आधार पर पढ़ाई करती है और 5 महीने के होने पर ही लाड़ली लक्ष्मी योजना के लिए रजिस्ट्रेशन हो गया हो । इस योजना का नियम है कि यदि किसी परिवार में केवल दो बच्चे हैं और उन बच्चों में से उनके माता-पिता का किसी एक का किसी कारण से देहांत हो गया है तो परिवार नियोजन की कोई भी शर्त लागू नहीं होगी।

लाड़ली लक्ष्मी योजना से एमपी में बाद महिलाओं के प्रति सम्मान–

इस योजना के शुरू होने के बाद महिलाओं के प्रति लोगों का सम्मान बढ़ गया क्योंकि उनके जन्म से उनकी शादी तक का खर्चा तो सरकार ने उठा लिया है तो उनके पालन पोषण में किसी भी प्रकार की समस्या आने वाले नहीं है और ना ही अब कोई परिवार किसी लड़की के पैदा होने पर गिलानी महसूस करता है बल्कि हर्ष और खुशी ही महसूस होती है । मध्य प्रदेश में आज भी बहुत से परिवार ऐसे हैं जो आर्थिक रूप से कमजोर हैं इसीलिए उनको अब खुशी होती है कि यदि कोई लड़की पैदा होती है तो उसकी कोई भी दिक्कत नहीं है ।

Join telegram

Leave a Comment