WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

मनोना धाम (Manona Dham) का पता: Manona Dham Adress

उत्तर प्रदेश के बरेली जिले के अंतर्गत आने वाला यह एक बहुत ही प्रसिद्ध धार्मिक तीर्थ स्थल है जो बरेली जंक्शन से लगभग 8 किलोमीटर की दूरी पर ही स्थित है । बरेली जंक्शन से जैसे ही आप नैनीताल रोड पर जाएंगे तो आपको नैनीताल रोड पर ही नजदीक यह धाम मिल जाएगा। मनोना धाम के बारे में 2014-15 से पहले बहुत लोगों को जानकारी नहीं थी लेकिन धीरे-धीरे जैसे ही सोशल मीडिया पॉपुलर हुआ और वीडियो वायरल हुई तो सबको इसके बारे में धीरे-धीरे खबर हो गई।

पताManona Dham , Manona, उत्तर प्रदेश 262201, Nainital Road, Bareilly, उत्तर प्रदेश – 243001

बरेली जंक्शन से जाना हुआ बहुत आसान–

जब किसी तीर्थ यात्रा पर किसी को जाना होता है तो उसमें आने-जाने की सबसे बड़ी समस्या होती है क्योंकि अगर कोई तीर्थ स्थल बहुत दूर है तो उसके लिए बहुत सुगम यातायात की आवश्यकता होती है । अगर उचित यातायात के साधन न हो तो आने-जाने में बड़ी तकलीफ होती है जिस वजह से कई बार लोग भाग कई तीर्थ यात्रा को छोड़ ही देते हैं। बरेली में स्थित खाटू श्याम का मंदिर बहुत ही चर्चित और विख्यात है यहां पर लाखों लोग दर्शन करने के लिए आते हैं क्योंकि यहां पर आने के बाद खाटू श्याम के दर्शन करने के बाद हजारों लोगों की मनोकामनाएं पूरी हुई है।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

कौन है खाटू श्याम!

खाटू श्याम के बारे में न जाने कई लोगों ने कितने तरीके से कितनी कहानियां बताई होगी लेकिन सबसे बड़ी बात यह है कि खाटू श्याम स्वयं घटोत्कच के पुत्र बर्बरीक को कहा जाता है क्योंकि बर्बरीक ने भगवान श्री कृष्ण को दान में अपना सर दे दिया था। भगवान श्री कृष्णा और खाटू श्याम की कहानियां और किस्से महाभारत काल से ही मिलते हैं जो बहुत ही रोचक और सुंदर हैं। घटोत्कच स्वयं महाबली भीम के पुत्र थे जो पांडवों में से सबसे बलशाली थे इसके बाद घटोत्कच का पुत्र भी महाबली भीम से भी बलशाली था और शरीर भी बहुत बड़ा था ।

उत्तर प्रदेश में मनोना धाम बना लोगों की आस्था का केंद्र–

बाबा खाटू श्याम के दर्शन करने ना जाने कितने लोग आते हैं और आज तक ऐसा नहीं हुआ है कि वहां पर जाने के बाद किसी की उम्मीद पूरी न हुई हो अर्थात अगर कोई किसी भी तरह की उम्मीद लेकर आता है किसी भी रोग से पीड़ित है किसी भी समस्या से परेशान है तो उसकी हर समस्या यहां पर दूर हो जाती है। बाबा खाटू श्याम का अपने भक्तों के ऊपर ऐसा आशीर्वाद रहता है कि उनके दर्शन करने मात्र से हर समस्या का हरण हो जाता है।

मनोना धाम के खाटू श्याम की कहानी–

महाभारत काल के समय भगवान श्री कृष्ण अर्जुन और घटोत्कच के पुत्र बर्बरीक के बीच न जाने कितने किस्से मां को भावुक कर देने वाले होते हैं और प्रेरणा स्रोत बने हैं। घटोत्कच के पुत्र बर्बरीक को ही खाटू श्याम के नाम से जाना जाता है जिनके बारे में कहा जाता है कि अगर इस धाम पर खाटू श्याम के दर्शन करने के लिए कोई आता है तो उसकी हर मनोकामना पूरी होती है हर इच्छा पूरी होती । भगवान श्री कृष्ण ने बर्बरीक को आशीर्वाद दिया था कि तुम्हारी युद्ध में तो कोई जरूरत नहीं है लेकिन कलयुग में तुम्हारी जरूरत बहुत है इसीलिए जो भी तुम्हारे दर्शन करने के लिए आएगा उसकी हर मनोकामना पूरी होगी।

Join telegram

Leave a Comment