WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

मोहन यादव होंगे लाडली बहनों के भैया, शिवराज मामा की जगह मोहन होंगे मामा (12 जनवरी बड़ी खबर)

मध्य प्रदेश में लाडली बहन योजना को लेकर बयान बाजी जारी है। लाडली बहन योजना को शुरू करने वाले मामा शिवराज अब लाडली बहनों के भैया नहीं कहलायेंगे, यह कहना है कांग्रेस के दिग्गज नेताओं का। लाडली बहन योजना की प्रारंभिक 7 किस्तें शिवराज मामा द्वारा लाडली बहनों के खाते में डायरेक्ट ट्रांसफर की गई, लेकिन 10 जनवरी को आठवीं किस्त शिवराज मामा की जगह माननीय मुख्यमंत्री मोहन यादव जी द्वारा लाडली बहनों के खाते में 1250 रुपए की राशि डायरेक्ट सिंगल क्लिक के माध्यम से लाडली बहनों के खातों में ट्रांसफर की गई।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

मध्य प्रदेश की राजनीतिक जानकारी का कहना है कि मध्य प्रदेश में भाजपा की जीत में लाडली बहना योजना का इतना बड़ा योगदान रहा है कि जितना किसी भी और फैक्टर का योगदान इस चुनाव में नहीं रहा है।

कांग्रेस का यह भी कहना है की लाडली बहनों के खातों में जो पैसे डालेगा वही लाडली बहनों का भाई होगा। कांग्रेस का कहने का मतलब यही है कि जब मामा शिवराज लाडली बहनों के खाते में पैसे नहीं डाल रहे हैं तो जो भी लाडली बहनों के खाते में पैसे डाल रहे हैं उनको ही मामा घोषित कर देना चाहिए उनको ही लाडली बहनों का भैया घोषित कर देना चाहिए।

हालांकि लाडली बहनों की आठवीं किस्त जैसे ही मोहन यादव जी ने सिंगर क्केलिक माध्यम से ट्रांसफर की वैसे ही लाडली बहनों की संख्या को लेकर के बवाल पैदा हो गया क्योंकि जब लाडली बहना योजना की शुरुआत हुई थी तब से लेकर के 7 किस्तों तक लाडली बहना योजना की पात्र महिलाओं की संख्या 1.31 करोड़ थी लेकिन आठवीं किस्त आते-आते लाडली बहनों की संख्या 1.29 करोड़ कैसे बची, इस पर कांग्रेस पार्टी ने मोहन यादव सरकार पर हमला भी किया।

माननीय मुख्यमंत्री मोहन यादव जी ने भी इसका जवाब दिया कि जब लाड़ली योजना शुरू हुई थी तब सब कुछ बहनों की उम्र 60 साल तक नहीं हुई थी लेकिन अब यह 10 जनवरी 2024 तक आते-आते लगभग 1.78 लाख लाडली बहनों की उम्र 60 साल हो चुकी है जबकि लाडली बहना योजना के लिए अधिकतम उम्र 59 साल है। इसीलिए 1.78 लाख लाडली बहनें अपात्र घोषित कर दी गई और उन्हें अब पेंशन योजना का लाभ दिया जाएगा न कि लाडली बहना योजना से लाभ नहीं दिया जाएगा।

संबंधित खबरें भी पढ़ें –

Mohan Yadav will be the brother of dear sisters, Mohan will be the maternal uncle instead of Shivraj maternal uncle.- Related Keywords

Join telegram

Leave a Comment