WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

राजगढ़ जिले के प्रमुख पर्यटन स्थल History & Competitive GK

राजगढ़ जिला भोपाल संभाग के अंतर्गत आता है। पार्वती नदी के किनारे स्थित राजगढ़ मध्य प्रदेश का सबसे रेगिस्तानी जिला है। राजगढ़ स्थित नरसिंहगढ़ के किले को कश्मीर ए मालवा के नाम से जाना जाता है। राजगढ़ स्थित छीरी गांव के निवासी संस्कृत भाषी है क्योंकि यह वार्तालाप के रूप में संस्कृत भाषा का प्रयोग करते हैं। राजगढ़ पहला जिला जिसने सर्वप्रथम प्रथम मानव विकास प्रतिवेदन प्रस्तुत किया था। राजगढ़ जिले के अंतर्गत आने वाली ब्यावरा तहसील को राष्ट्रीय राजमार्गों का चौराहा कहा जाता है। राजगढ़ रेगिस्तानी जिला है ।

✔️ एमपी जिला राजगढ़, ऐतिहासिक साक्ष्य

राजगढ़ पार्वती नदी के किनारे बसा हुआ है। राजगढ़ जिले की स्थापना राजपूत राजा हृदय शाह ने की थी । 1765 में प्रसिद्ध दार्शनिक और वैज्ञानिक टी पैथलर ने इस नगर की यात्रा की । राजपूत राजा गज सिंह ने अपने पुत्र राज सिंह के नाम पर इसे नगर के रूप में बसाया और इसका नाम राजगढ़ रखा। राजगढ़ जिले में स्थित नरसिंहगढ़ का किला गिन्नौरगढ़ की तरह बोलने वाले तोतो के लिए प्रसिद्ध है। राजगढ़ में चंदेल राजाओं ने प्रसिद्ध मान्यतागड के किले का  निर्माण कराया यहां इनकी कुल देवी मान्या माता का मंदिर स्थित है। राजगढ़ जिले में स्थित नरसिंहगढ़ के लिए और उसके आसपास स्थित चिड़ीखो झील जामुन खो अधियार खो   जैसे स्थानों को संयुक्त रूप से मालवा का कश्मीर कहा जाता है । राजगढ़ जिले में उसकी बनावट के कारण सूर्य का सबसे ज्यादा प्रकाश पड़ता है ।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
एमपी जिला राजगढ़, ऐतिहासिक साक्ष्य
एमपी जिला राजगढ़, ऐतिहासिक साक्ष्य Photo

✔️ राजगढ़ जिले के प्रमुख पर्यटक स्थल

राजगढ़ जिले के प्रमुख पर्यटक स्थलMajor Tourist Places of Rajgarh District
देश ↪️ भारत
राज्य ↪️ मध्यप्रदेश
संभाग ↪️ भोपाल
जिला ↪️ राजगढ़
औद्योगिक केंद्र ↪️पीलूखेड़ी
पार्वती नदी के किनारे बसा ↪️ राजगढ़
राजगढ़ जिले की स्थापना ↪️ राजपूत राजा हृदय शाह के द्वारा
नरसिंहगढ़ का किला ↪️ राजगढ़
राज्य का पहला सोलर पार्क ↪️ राजगढ़ जिले में
तहसील ↪️ 7
विधानसभा ↪️ 5
मोहनपुरा डैम ↪️ राजगढ़
चिड़ीखो झील ↪️ राजगढ़
कपिलेश्वर महादेव मंदिर ↪️ सारंगपुर राजगढ़

✔️ राजगढ़ एमपी स्वास्थ्य, पार्क एवं अभ्यारण्य

राजगढ़ जिला मानव विकास प्रतिवेदन को स्वीकार करने वाला भारत का पहला जिला बना है। प्रसिद्ध पार्वती नदी का उद्गम राजगढ़ जिले से ही होता है। मां जालपा माता का मंदिर धरेल पहाड़ी के पशुपतिनाथ और भीमगढ़ के स्वयंभू हनुमान इस जिले के प्रमुख दर्शनीय स्थल हैं । पीलूखेड़ी राजगढ़ जिले में स्थित प्रसिद्ध उद्योग केंद्र है। डब्ल्यूएचओ विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट के अनुसार सर्वाधिक मुंह के कैंसर के मरीज राजगढ़ जिले में देखे गए हैं। राजगढ़ जिले के अंतर्गत आने वाले गणेशपुरा में राज्य का पहला सोलर पार्क बनाया जा रहा है। मध्यप्रदेश शासन ने चिड़ी को झील को पक्षी अभ्यारण के रूप में मान्यता दी है । राजगढ़ जिले के अंतर्गत कुल 5 विधानसभा में और 7 तहसीलें आती हैं।

✔️ राजगढ़ जिले के प्रमुख पर्यटक स्थल

राजगढ़ जिले के प्रमुख पर्यटक स्थल  निम्न है

  • ⚫ नरसिंहगढ़ का किला
  • ⚫ चिड़ीखो झील
  • ⚫ मोहनपुरा डैम
  • ⚫ श्याम जी शाका का मंदिर
  • ⚫ कुंडलिया डैम
  • ⚫ घोरेला पशुपतिनाथ मंदिर
  • ⚫ कपिलेश्वर महादेव मंदिर सारंगपुर
  • ⚫ शनि मंदिर
  • ⚫ श्री नाथ जी का बड़ा मंदिर
  • ⚫ भीमगढ़ के स्वयंभू हनुमान
  • ⚫जामुन खो
  • ⚫अंधियार खो

✔️ 1. नरसिंहगढ़ का किला

नरसिंहगढ़ नगर मध्य भारत के मध्य प्रदेश राज्य के राजगढ़ जिले में सोनार नदी के दाएं किनारे पर स्थित है। इस नगर की स्थापना 1981 में की गई थी । नरसिंहगढ़ पर मालवा के खलची शासकों का शासन था उन्होंने यहां पर किले और मस्जिदों का निर्माण करवाया था। नरसिंहगढ़ नगर एक झील के किनारे बसा हुआ है। यहां पर पर्वतों की चोटी पर एक विशाल किला स्थित है। जिसे नरसिंहगढ़ का किला कहते हैं । यह परमार राजवंश का 300 साल पुराना किला है। नरसिंहगढ़ का किला गिन्नौरगढ़ के किले की तरह बोलने वाले तोतो के लिए प्रसिद्ध है।

नरसिंहगढ़ का किला
नरसिंहगढ़ का किला Photo

✔️ 2. चिड़ी खो झील

चिड़ीखो झील अपने प्राकृतिक सुंदरता के लिए यह राजगढ़ जिले की सबसे खूबसूरत जगह में से एक है। चिड़ीखो झील पर्यटकों के लिए विशेष आकर्षण का केंद्र है । चिड़ीखो झील में पक्षी अलग-अलग स्थानों से पहुंचते हैं । चिड़ीखो झील पर हम स्थानीय पक्षी और प्रवासी पक्षियों की झलक देख सकते हैं । यहां पर दूधराज पक्षी और राष्ट्रीय पक्षी मोर मुख्य रूप से देखा जा सकता है। इसके अलावा इसमें चीतल नीलगाय को भी  देखा जाता है। चिड़ीखो देखने के लिए दर्शक दूर दूर से देखने के लिए आते हैं । चिड़ीखो झील बहुत ही प्रसिद्ध झील है।

 चिड़ी खो झील
चिड़ी खो झील Photo

✔️ 3. श्याम जी शाका का मंदिर

साका पार्वती नदी के तट पर एक छोटा सा गांव है । यह पुराने जमाने में एक तहसील हुआ करता था। यह कोटरा से 5 किलोमीटर दूर है। माघ माह में हर साल यहां एक मेला आयोजित किया जाता है। यह प्रसिद्ध मंदिर 1617 ईस्वी में राजा संग्राम सिंह की स्मृति में पत्नी भागवती द्वारा बनवाया गया था। यह मंदिर राज्य सरकार द्वारा संरक्षित है। यह मंदिर मालवीय और राजस्थानी त्यौहारों को भी दर्शाता है। इस मंदिर में पत्थर से अच्छी नक्काशी की गई है।

श्याम जी शाका का मंदिर
श्याम जी शाका का मंदिर Photo

✔️ 4. मोहनपुरा डैम

मोहनपुरा सिंचाई पहली ऐसी परियोजना है । जहां प्रेशर से देश में सिंचाई की जाएगी। मोहनपुरा डैम के चारों और प्राकृतिक नजारा बहुत ही सुंदर लगता है। यह पिकनिक डैम के रूप में काफी प्रसिद्ध है। यहां पर लोग दूर-दूर से पिकनिक मनाने आते हैं। मोहनपुरा डैम बहुत ही बड़ा डैम है।

मोहनपुरा डैम
मोहनपुरा डैम Photo

✔️ 5. कुंडालिया डैम

राजगढ़ और आगर मालवा के बीच कुंडालिया डैम का निर्माण किया गया है। यह डैम कालीसिंध नदी पर बना हुआ है। इस डैम से राजगढ़ के सारंगपुर, खिलचीपुर ,चेरा पुर और आगर मालवा के नलखेड़ा, सुसनेर आदि खंड में सिंचाई की जाती है।

कुंडालिया डैम
कुंडालिया डैम Photo

✔️ 6. बेसवा माता का मंदिर

राजगढ़ जिले के बेसवा में माता जी का मंदिर स्थित है। यह मंदिर अत्यंत चमत्कारी मंदिर है। गांव की पहाड़ी पर बना माता वैसवा माता का मंदिर लगभग 10 एकड़ जमीन में फैला हुआ है । मंदिर में और भी अनेक देवी-देवताओं की मूर्तियां स्थापित हैं । मंदिर के बाहर की तरफ प्रसाद आदि की दुकानें लगी हुई है। नवदुर्गा के समय यहां पर लाखों की संख्या में भक्त आते हैं।

✔️ 7. कपिलेश्वर महादेव मंदिर सारंगपुर

कपिलेश्वर महादेव मंदिर कालीसिंध नदी के बीचो-बीच बना हुआ है । यह मंदिर धार्मिक और आलोकिक एक आस्था का केंद्र है। कपिलेश्वर महादेव मंदिर नदी की तेजधार और हर साल आने वाली बाढ़ में यह मंदिर सुरक्षित रहता है । यह मंदिर वस्तु कला का नमूना है। मान्यता है कि इस मंदिर की चट्टान पर कपिल मुनि ने तपस्या की थी। उन्हीं  के द्वारा इस शिवलिंग की स्थापना की गई थी।

✔️ 8. श्रीनाथ जी का बड़ा मंदिर राजगढ़

श्रीनाथ जी का बड़ा मंदिर अति प्राचीन मंदिर है । यह मंदिर नदी के तट पर स्थित है। यह काफी बड़ा मंदिर है। नदी के तट पर स्थित होने से नदी में जल भरने से मंदिर का गर्भगृह जल मग्न हो जाता है । 1887 में इस मंदिर का निर्माण करवाया गया था । मंदिर को बनने में 24 वर्ष का समय लगा था।

श्रीनाथ जी का बड़ा मंदिर राजगढ़
श्रीनाथ जी का बड़ा मंदिर राजगढ़ Photo

✔️ 9. शनि मंदिर

यह मंदिर राजगढ़ के खिलचीपुर में स्थित है । इस मंदिर के दर्शन के लिए हजारों लोग आते हैं । खिलचीपुर रियासत के महाराज उग्रसेन ने प्रतिमा स्थापित की थी।

✔️ 10. घोरेला पशुपतिनाथ मंदिर

घोरेला पशुपतिनाथ मंदिर में सावन सोमवार को भारी भीड़ रहती है। यह मंदिर ब्यावरा में स्थित है। यह ब्यावरा से 15 किलोमीटर दूर स्थित है । मंदिर के पास गुफा स्थित है । भोलेनाथ की पूजा यहां वर्षों से निरंतर की जा रही है।

घोरेला पशुपतिनाथ मंदिर
घोरेला पशुपतिनाथ मंदिर Photo

✔️ राजगढ़ जिले के प्रमुख पर्यटक स्थल History & Competitive GK FAQ’S

🔵राजगढ़ में बोलने वाले तोतो के लिए कौन सा किला प्रसिद्ध है?

उत्तर नरसिंहगढ़ का किला।

🔵 मध्यप्रदेश में श्रीनाथ जी का बड़ा मंदिर किस जिले में स्थित है?

उत्तर राजगढ़।

🔵 कपिलेश्वर महादेव मंदिर किस जिले में स्थित है?

उत्तर राजगढ़।

🔵 बेसवा माता का मंदिर किस जिले में स्थित है?

उत्तर राजगढ़।

🔵 मध्यप्रदेश के किस जिले के गांव में केवल संस्कृत भाषा बोली जाती है?

उत्तर छीरी गांव राजगढ़।

🔵 मालवा का कश्मीर किस जिले को कहा जाता है?

उत्तर राजगढ़।

🔵 राजगढ़ जिले का उद्योग केंद्र कौन है?

उत्तर पीलूखेड़ी ।

🔵 राष्ट्रीय राजमार्गों का चौराहा किसी कहा जाता है?

उत्तर ब्यावरा तहसील  राजगढ़।

🔵 मोहनपुरा डैम किस जिले में स्थित है?

उत्तर –  राजगढ़।

🔵 राजगढ़ जिले में कितनी तहसीलें हैं?

उत्तर –  7

🔵 राजगढ़ जिले में कितनी विधानसभा हैं?

उत्तर 5

🔵 जामुन खो झील किस जिले में स्थित है?

उत्तर – राजगढ़।

Website Home ( वेबसाइट की सभी पोस्ट ) – Click Here
———————————————————-
Telegram Channel Link – Click Here
Join telegram

Leave a Comment