WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

परीक्षा पेपर लीक रोकने के लिए मजबूत कानून ला रही मप्र सरकार : विधानसभा में कानून जल्द होगा पास

मध्य प्रदेश में वर्तमान समय में 2024 की एमपी बोर्ड की परीक्षाएं आयोजित की जा रही हैं जिसमें शिक्षा विभाग के द्वारा कई तरह के निर्देश जारी किए गए हैं और सुरक्षा की एकदम व्यवस्था की गई है । मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी के कार्यकाल में पिछले कई सालों में फर्जी पेपर को वायरल किया गया जिससे सरकार ने कोई भी एक्शन नहीं लिया।

लेकिन वर्तमान समय में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री विधानसभा चुनाव 2023 के बाद डॉक्टर मोहन यादव जी बन चुके हैं जिनके द्वारा निर्देश जारी कर दिए गए हैं। नए मुख्यमंत्री जी के द्वारा पेपर को लीक होने से रोकने के लिए जबरदस्त प्रयास किया जा रहा है जिसके बारे में हम आज के आर्टिकल में बात करेंगे ।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

फर्जी पेपर वायरल करने वाले लोगों के लिए आएगा सख्त कानून –

फर्जी पेपर को वायरल करने वाले लोगों के लिए सरकार ने सीधा नियम बना दिया है कि यदि उनके ऊपर यह है पुष्टि हो जाती है कि फर्जी पेपर वायरल कराया है तो निश्चित रूप से उनको तुरंत जेल भेजा जाएगा । सोशल मीडिया पर यदि किसी विद्यार्थी के द्वारा कोई ऐसी वारदात करी जाती है जिसका भुगतान अन्य विद्यार्थियों को करना पड़े अर्थात विद्यार्थी के द्वारा ही कोई पेपर वायरल कराया जाता है तो उसे विद्यार्थी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करी जाएगी ।

सरकार ने से संबंधित प्रयास किया है कि इस प्रकार का कोई ऐसा कानून प्रदेश में लागू किया जाए जिसकी वजह से लोग फर्जी पेपर को वायरल करने के लिए डरें।

पेपर लीक कैसे होते हैं ?

ओरिजिनल पेपर की लीक होने की संभावना न के बराबर होती है लेकिन जो पेपर वायरल होता है वह बिल्कुल ओरिजिनल पेपर की तरह दिखता है इसका सबसे बड़ा कारण यह होता है कि एक तरह से मॉडल पेपर को वायरल कराया जाता है ।

परीक्षा से पहले विद्यार्थियों के लिए जो मॉडल पेपर तैयार किया जाता है वह बिल्कुल ओरिजिनल पेपर की तरह दिखता है क्योंकि इसमें वही महत्वपूर्ण प्रश्न होते हैं जो परीक्षा की दृष्टि से महत्वपूर्ण होते हैं । मॉडल पेपर में उन प्रश्नों को दिया जाता है जो कई बार या तो परीक्षा में पूछे जाते हैं या फिर ब्लूप्रिंट के आधार पर उनकी अधिक से अधिक संभावना होती है।

पेपर लीक करने में टेलीग्राम पर जुड़े विद्यार्थी –

कई बार विद्यार्थियों को लगता है कि टेलीग्राम पर वहीं पेपर मिल जाएगा जो इंटरनेट पर वायरल है तो इस प्रकार के पेपर को ढूंढने के लिए विद्यार्थियों का ग्रुप बनाया जाता है। टेलीग्राम पर बने ग्रुप में विद्यार्थी एक दूसरे से बात करते हैं और वायरल पेपर को तलाशने की कोशिश करते हैं लेकिन उनको फर्जी पेपर मिलता है और बेवकूफ बन जाते हैं ।

शिक्षा से जुड़ा शिक्षा मंत्री का बयान आया सामने –

एमपी बोर्ड की 2024 की परीक्षाओं से पहले मध्य प्रदेश के शिक्षा मंत्री ने यह आश्वासन दिया है कि प्रदेश में किसी भी तरीके से 2024 की परीक्षा से संबंधित कोई भी मॉडल पेपर वायरल नहीं होना चाहिए ना ही फर्जी पेपर वायरल होना चाहिए। शिक्षा विभाग के द्वारा ऐसा बताया गया है कि यदि कोई भी फर्जी पेपर को वायरल करने की कोशिश करता है और उसे पर अंजाम ठहरता है तो उसे पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी और उसे जेल भेजा जाएगा ।

Join telegram

Leave a Comment