WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

ठंडी में मुर्गियों के रोग – सर्दियों में मुर्गी पालन में सावधानी


देशी मुर्गी पालन
नमस्कार दोस्तों आज हम बात करते हैं देशी मुर्गी पालन कैसे करें। देशी मुर्गी पालन एक ऐसा बिसनेस है जिसे छोटे से छोटे फार्मर भी कर सकता है। जिसके पास ज्यादा खर्च करने के लिए पैसा न हो वो भी इस बिजनेस को कर सकता है। अपने घर, मतलब जहां भी जगह खाली हो ।


देशी मुर्गी आप दो तरह से पाल सकते हो।

  • एक तो अंडों के लिए
  • दूसरी है मीट प्रोडक्शन के लिए

जैसे ही आप इसे अंडों के लिए पाल रहे हो तो इसका अंडा काफी ज्यादा डिमांड में रहता है। क्यों कि ये दूसरे अंडों के मुकाबले काफी ज्यादा फायदेमंद रहता है। सेहत के लिए।
तो इसका इस्तेमाल सर्दियों में किया जाता है। इसके अंडे के मूल्य भी काफी ज्यादा मिलेगा,

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

बात करें इसके मीट प्रोडक्शन की, मीट भी इसका काफी ज्यादा डिमांड में रहता है। ये भी मीट काफी ज्यादा फायदेमंद होता है।सेहत के लिए। इसके मीट में प्रोटीन भी काफी ज्यादा मात्रा में होता है।ज्यादा डिमांड के चलते हुए इसका मूल्य भी काफी ज्यादा होता है। इसका मूल्य 1000 रुपए 1500 रुपए इस तरह से इसके मुर्गे मार्केट में मिलते है। अगर आप इस बिजनेस को करना चाहते हैं तो मेरी एडवाइज है ।आप इसको बीस या तीस यूनिट के हिसाब से शुरू कर सकते हो।आप जिसको घर पर या कहीं और जगह खाली हो वहां पर इसको पाल सकते हो। वहीं बात करे ग्रोथ की तो, इसकी ग्रोथ काफी धीमी होती है। ये मुर्गा तीन महीने का समय ले लेता है दो किलो का होने में देशी मुर्गे में बीमारियां बहुत कम आती है। ये काफी हद तक बीमारियों का सह लेता है।

शरद ऋतु के रोग ग्रीष्म ऋतु के रोग
श्वसन शोथकुक्कुट चेचक
साल मोनिलाचिचड़ी ज्वर
अभिशीतन आदि | कृमि रोग आदि |

मुर्गियों का खाना

इसलिए इसमें खर्च बहुत कम होता है। अब करें बात फ़ीड की, तो आप इसे फ़ीड भी घर पर बना दे सकते हैं। जैसे मक्का,बाजरा इस तरह के फ़ीड बनाकर आप दे सकते हो। अगर हम बात करे ब्रॉयलर मुर्गे की तो आपको ब्रॉयलर मुर्गे को आपको मार्केट से ही फ़ीड परचिस करके देना पड़ेगा।
वो फ़ीड काफी ज्यादा महंगा होता है। तो इस वजह से poultry farming काफी ज्यादा नुकसान में चला जाता है। अगर आपके यहां फ़ीड सस्ता मिल रहा है तो आप ब्रॉयलर farming भी अच्छे से कर सकते हैं।


मुर्गे पर मौसम का प्रभाव


अगर हम बात करें मौसम की तो मौसम का ज्यादा प्रभाव देशी मुर्गे पर नहीं पड़ता है। क्योंकि इसकी इम्यूनिटी काफी अच्छी होती है। इसलिए मौसम का कोई भी असर इस पर जल्दी से नहीं पड़ता है। अगर आप ब्रॉयलर farming  करते तो मौसम का ज्यादा ध्यान रखना होता है। खासतौर कर परदों का कब खोलने है और कब टाइम से बंद करनें है। वहीं बात करे हम देशी मुर्गो कि तो देशी मुर्गो में ये नहीं करना होता है।आपको थोड़ा बहुत ही ध्यान रखना है बारिश का या ज्यादा ठंड का इसको आप खुले में भी छोड़ सकते हैं।ये काफी ज्यादा एक्टिव भी होता है। ब्रॉयलर मुर्गे के मुकाबले

ठंडी में मुर्गी के रोग –


ठंडी में मुर्गी पालन में सबसे ज्यादा बीमारी  आतीं हैं |  जिससे हमें सबसे ज्यादा कंफ्यूज़न होती है कि कौन सा उपचार किया जाए मुर्गी का और बहुत सारा हमारा नुकसान हो जाता है। तो उसी के बारे में आज हम बात करेंगे कौन सी वे दो बीमारियां है
सबसे पहले जो बीमारी है सर्दियों के मौसम में
मुर्गो का ज़ुकाम होता है।
और दूसरा जो है सीआरडी (CRD)

मुर्गो का ज़ुकाम और सीआरडी (CRD)

उसी के बारे में आज हम बात करते हैं किस तरह हम सीआरडी (CRD) की बीमारी और जुकाम को पहचान सकते हैं।
ठंडी के मौसम में सबसे पहले एक दम से मौसम बदल जाता है।
ठंडी के मौसम में सुबह के टाइम परदे लेट खोलना चाहिए

  • शाम के टाइम जल्दी बंद कर देना चाहिए जिससे हमारे सैंड का मेंनटेन सही रहता है।
  • टेम्परेचर मेंनटेन रखने के लिए सैंड में आप बल्ब का भी यूज कर सकते हैं। हैलोजेन का भी यूज कर सकते हो |

रोग के लक्षण

मुर्गों को जब सर्दी होती है तो मुर्गी चीक मारती है और उनकी नाक से पानी गिरता है और थोड़ी बहुत मुर्गी सुस्त भी हो जाती है। लेकिन हमें कंफ्यूजन होता है कि हमारी मुर्गी को सीआरडी (CRD) हो गई है | अगर सीआरडी (CRD) हो जाती है तो हमें लगने लगता मुर्गियों को नॉर्मल सा जुकाम हो गया है।

हमें लगता है कि ये क्लाइमेट चेंज होने की वजह से हो गया है। और हम उतना केयर नहीं करते हैं । हमें फिर जो है उसका नुकसान होता है।

सीआरडी (CRD) के लक्षण है
पूरा नाम – Chronic respiratory disease (CRD)
सीआरडी (CRD) एक सांस लेने की बीमारी है | इसके अंदर तीन से चार लक्षण होते हैं जिसको हम देखकर पता लगा सकते हैं कि हमारी मुर्गियों को Chronic respiratory disease (CRD)  की बीमारी हो चुकी है।
तो सबसे पहले लक्षण है मुर्गी अपना मुंह खोलकर सांस लेती है।, मुर्गियां जो खर- खर की आवाज करती है। अगर आप नये फार्मर हैं तो उतना आपको पता नहीं होता है।

सीआरडी (CRD) का उपचार –
आप उनको लिंगजर पाउडर भी दे सकते हैं |  महीने में या सप्ताह में एक दो बार जरूर देना चाहिए । इससे क्या होता है कि आपकी मुर्गियों को जो ठंडी की बीमारी है। कोई इंफेक्शन. बक्टैरिया ये बीमारी नहीं आएगी।

तो इस तरह से आप मुर्गी पालन में इन विशेष बातों का ख्याल रखकर सफल किसान बन सकते हैं | मुर्गी पालन में रोगों के साथ साथ मुर्गियों की नस्लों का भी विशेष ख्याल रखना होता है | तो दोस्तों आशा करते हैं आपको ये जानकारी अच्छी लगी होगी |

10 दिन के चूजों के रोग 6 सप्ताह के चूजों के रोग 8 सप्ताह के चूजों के रोग
अभिशीतनरानीखेतकृमि
पीतककॉक्सीडियोसिस चिचड़ी ज्वर
प्रचूणस्यनश्वसन शोथफीताकृमि
मुर्गियों को रोग से बचाने के लिए निम्न बातों पर विशेष ध्यान देना चाहिए।बीमार मुर्गियों की देखभाल
(1) स्वच्छता
(i) पक्षियों की सफाई,
(ii) उपयोग में आने वाले वस्त्रों की सफाई,
(iii) कुक्कुटशाला की सफाई।
(1) बीमार पक्षी को तुरन्त झुण्ड से अलग कर देना चाहिए तथा उनकी देखभाल भी अलग व्यक्ति द्वारा करनी चाहिए।
(2) उचित आवास व्यवस्था(2) अधिक संक्रामक रोग वाले पक्षी को तुरन्त मार देना चाहिए तथा उसका रक्त न फैलने दें।
(3) सन्तुलित भोजन (Balanced Diet),(3) मरे पक्षी को जमीन में गहराई में गाढ़ देना चाहिए या जला दें।
(4) पृथक्ता (Seggrigation),(4) बीमार पक्षी में संलग्न व्यक्ति बिना जीवाणुओं के हनन किये स्वस्थ पक्षियों को न छूए।
(5) बिछावन प्रबन्ध (Litters management),(5) पीने के पानी में पोटैशियम परमैंगनेट मिलाकर पिलाना चाहिए।
(6) वायु प्रबन्ध (Ventilation),(6) दड़बे के सभी उपकरणों को जीवाणु रहित कर लेना चाहिए।
(7) ताजा, शुद्ध जल (Fresh, pure water),(7) बीमार पक्षी के बारे में डॉक्टर से सलाह अवश्य लें।
(8) रोग निरोधक टीके (Vaccination),
(9) कीटाणु नाशक दवाओं का छिड़काव (Spraying of antiseptic),
(10) दवाओं का प्रबन्ध (Arrangement of medicines),
(11) रोग ग्रस्त मुर्गियों को अलग रखना (Separation of diseased hen)।
Website Home ( वेबसाइट की सभी पोस्ट ) – Click Here
———————————————————-
Telegram Channel Link – Click Here

FAQ –


1. मुर्गी पालन की सबसे अच्छी नस्ल कौन सी रहेगी किसानों के लिए  ?
उत्तर – मुर्गियों की नस्लों का चुनाव कृषि वैज्ञानिक और अपने क्षेत्र की जलवायु परिवर्तन के अनुरूप ही करना चाहिए |
मुर्गी पालन में अण्डा उत्पादन के लिए मिनोरका, एनकोना, व्हाइट लेगहार्न, कैम्पियस आदि नस्लें आती हैं | मांस वाली नस्लों में ब्रम्हा, कोचीन, चिटगांव आदि नस्लें आती हैं |

2. क्या मुर्गी पालन में सफल हो सकते हैं?
उत्तर –  जी हाँ मुर्गी पालन में अपार संभावनाएं हैं | मुर्गी पालन से आप लाख रुपये महीना तक पैसे कमाने सकते हैं |

3. मुर्गियों में गर्मियों में रोग आतें हैं क्या?
उत्तर –  जी हाँ, मुर्गियों में सर्दियों के साथ साथ गर्मियों में भी रोग आते हैं |

4. Chronic respiratory disease (CRD) बीमारी गर्मियों में भी आती है क्या?
उत्तर – जी नहीं सीआरडी (CRD), बीमारी केवल सर्दियों में ही आती है |

Read also-

Join telegram

Leave a Comment