जिला सतना Satna tourist places in hindi MP Tourism

☑️जिला सतना

सतना जिला मध्य प्रदेश का बहुत ही प्रसिद्ध जिला है।जिले के अंदर जो भी महत्वपूर्ण तथ्य हैं। आज मैं उनको आपके सामने इस पोस्ट में रखने वाला हूं। आपको सतना जिले से संबंधित सभी चीजों को एकत्रित करके एक ही पोस्ट में बताने वाला हूं। ताकि आप कहीं पर भी ना भटके आपका सारा जिला एक ही पोस्ट में तैयार हो जाए।

सतना जिले में आपको बहुत सारे पर्यटन स्थल देखने को मिलने वाले हैं। मैं आपको एक-एक करके सभी पर्यटक स्थल के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी दूंगा। ताकि आप उन्हें समझ सके। और सतना जाने में आसानी हो सके
सभी पर्यटक स्थल धार्मिक स्थल या अन्य स्थान जो घूमने योग्य हैं।

सतना जिला
पर्वतविंध्यांचल पर्वत
नदीटोंस, तमसा
उपनामसंगीत नगरी, सीमेंट नगरी
धार्मिक स्थलशारदा माता मंदिर, चित्रकूट धाम
व्हाइट टाइगर सफारीमुकुंदपुर
अलाउद्दीन खांकर्म स्थली
पार्कमैत्री पार्क
स्लीपर कोचसतना
संभागरीवा
जाने के लिए बस, ट्रेन
कुंडतमसा कुंड
घरानासंगीत घराना
घाटरामघाट
मंदिरवैष्णो देवी मंदिर, बटेश्वर मंदिर

☑️आज हम जानेंगे सतना जिले की प्रमुख 25 जगह जहां पर आप घूमने के लिए जा सकते है।

ꪜ मां शारदा माता मंदिर

मैहर एक प्रसिद्ध हिंदू तीर्थ स्थल है। जो त्रिकूट पर्वत पर्वत मालाओं के मध्य 600 फीट की ऊंचाई पर स्थित है। यह ऐतिहासिक शारदा माता का मंदिर 108 शक्तिपीठों में से एक है, यहां वैसे तो हजारों दर्शक आते हैं। किंतु वर्ष में दोनों नवरात्रों में यहां मेला लगता है। यहां आने से सभी भक्तो की मनोकामना पूर्ण होती हैं।ऐसा कहा जाता है, कि यहा पर जो मूर्ति माता की रखी हुई है। वह दिन में तीन बार अपना रूप बदलती है।

ꪜ चित्रकूट धाम

चित्रकूट धाम सतना जिले से सटा हुआ है, जो कि मंदाकिनी नदी के किनारे पर बसा भारत के सबसे प्राचीन तीर्थ स्थलों में से एक माना जाता है।ऐसा माना जाता है कि भगवान राम ने सीता लक्ष्मण के साथ अपने वनवास के 14 वर्षों में से 12 वर्ष चित्रकूट में ही बिताए थे।

चित्रकूट धाम में बहुत सारे धार्मिक स्थल देखने को मिलते हैं। जिसमें से मैं आपको महत्वपूर्ण धार्मिक स्थलों के बारे में बता देता हूं वैसे तो लगभग चित्रकूट की सभी धार्मिक स्थल महत्वपूर्ण हैं।

⚫️ चित्रकूट में ही श्री राम ने तुलसीदास को दर्शन दिए थे।
⚫️ यहीं पर तुलसीदास ने श्री राम को अपने हाथों से चंदन का तिलक लगाया था।
⚫️ श्री राम ने वनवास के 12 वर्ष चित्रकूट में ही बिताए थे।
⚫️ चित्रकूट मंदाकिनी नदी के तट पर बसा हुआ है।
⚫️ सतना जिले के मैहर को संगीत नगरी के नाम से जाना जाता है।
⚫️ सतना जिला अलाउद्दीन खां की कर्म स्थली रहा है। ⚫️ सतना जिले से टोंस तमसा नदी का उद्गम होता है। ⚫️ सतना जिले में सीमेंट कारखाने लगाए गए हैं।

चित्रकूट धाम

🌗रामघाट ➾रामघाट में स्नान करने से सभी तरह के पाप धुल जाते हैं।यहां पर श्रद्धालु स्नान करने आते हैं।

🌗 गुप्त गोदावरी➾चित्रकूट के गुफा के अंदर से गोदावरी नदी एक पतली धारा में बहती हुई दिखाई देती है।

🌗 भरत मिलाप
वनवास के समय श्री राम का और भरत जी का मिलन जिस स्थान पर हुआ था।उस स्थान को ही भरत मिलाप कहा गया है, जो चित्रकूट में स्थित है।

🌗 हनुमान धारा =यहां पर एक धारा वर्ष भर गिरती रहती है। वहीं पर हनुमान जी का बहुत बड़ी प्रतिमा बनी हुई है । यह दृश्य बहुत ही सुंदर दिखाई देता है।

🌗 अनसुईया आश्रम=अनसुईया माता का आश्रम बहुत ही भव्य तरीके से बना हुआ है। द्वार पर रथ पर श्री राम जी की मूर्ति स्थापित की गई है। अंदर बहुत सारी मूर्तियां बनाई गई हैं।

ꪜगिद्ध कूट पर्वत

यह एक पहाड़ी है जो कि सतना जिले के रामनगर तहसील के देवराज नगर में स्थित है। सतना से लगभग यह कुछ ही दूरी पर स्थित है।और पर्यावरणीय दृष्टि से अति महत्वपूर्ण है। इस पहाड़ी में चार गुफाएं हैं।जिनमें रॉक पेंटिंग तथा मुराल पेंटिंग देखे जा सकते हैं।हर वर्ष माघ महीने में वसंत पंचमी के दिन यहां मेला लगता है ।

ꪜवैष्णो देवी मंदिर

वैष्णो देवी मंदिर सतना सेंट्रल जेल के पास स्थित वैष्णो देवी का मंदिर है। कहा जाता है कि इस मंदिर का निर्माण कैदियों के द्वारा किया गया था। यह सतना रेलवे स्टेशन से लगभग 6 से 8 किलोमीटर की दूरी पर है।

ꪜनागौद किला

इस किले पर राजपूतों का शासन था। और यह सतना शहर से लगभग 29 किलोमीटर की दूरी पर है। किले का दरवाजा बहुत ही भव्य और दीवारें बहुत ही मजबूती से बनाई गई है।

ꪜरामवन

सतना शहर से लगभग 15 किलोमीटर की दूरी पर है, यह तब प्रसिद्ध हुआ जब यहां 1929 में लगातार 12 वर्षों तक अखंड मानस का पाठ किया गया। तब पर्यटकों को यह आकर्षित लगा। रामवन आस्था के साथ साथ पिकनिक स्पॉट भी है जहां मूर्तिकला भी पर्यटकों को आकर्षित करती है।

ꪜपरस्मानिया पर्वत

परस्मानिया सतना मुख्यालय से लगभग 55 किलोमीटर की दूरी पर है। यहां का प्राकृतिक दृश्य बहुत ही मनमोहक है। पर्वत पर जगह-जगह पर झरने और नदियां हैं जहां पर पर्यटक पिकनिक मनाने जाते हैं।

ꪜभरजुना माता मंदिर

यह मंदिर सतना जिला अंतर्गत भरजुना गांव में स्थित है। यहां 18 भुजाओं वाली मां आदिशक्ति विराजमान है।यहां का मंदिर बहुत ही शानदार बना हुआ है। यहां लोग अधिक संख्या में आकर माता का आशीर्वाद लेते हैं।

ꪜमाधवगढ़ फोर्ट

यह सतना मुख्यालय से लगभग 5 किलो मीटर की दूरी पर बना हुआ है।आसपास की भौगोलिक आकृति इसे विशेष बनाती है। इस किले का निर्माण विश्वनाथ सिंह जूदेव ने करवाया था।यह किला तमसा नदी के किनारे पर स्थित है।

ꪜपुष्करणी पार्क

यह पार्क सतना रेलवे स्टेशन से लगभग 400 मीटर की दूरी पर है। जहा पर आप पैदल जाकर के मंदिर के दर्शन कर सकते है।और घूमने के लिए मैदान पर्याप्त है तो आप आस पास घूम भी सकते है।

ꪜश्री बेगीनाथ मंदिर बीरसिंहपुर

सतना जिला मुख्यालय से 33 किलोमीटर दूर स्थित है। जिसका वर्णन पदम पुराण के पाताल खंड में मिलता है। यहां पर खंडित शिवलिंग की पूजा की जाती है। जिसके अनुसार त्रेता युग में राजा वीर सिंह का राज्य हुआ करता था उन्होंने इस भव्य मंदिर का निर्माण करवाया था।

ꪜमैत्री पार्क

सतना रेलवे स्टेशन से लगभग 4 किलोमीटर की दूरी पर है।
कई प्रकार के झूलों के साथ-साथ यहां की एलईडी लाइट और फब्बारे यहां की शोभा बढ़ाते है। कई प्रकार के खेल करने के लिए यहां व्यवस्था है।

ꪜ बसामन मामा

बसामन मामा वैसे तो बसामन मामा रीवा जिले में आते है। लेकिन यह सतना जिले से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

ꪜव्हाइट टाइगर सफारी मुकुंदपुर

सतना मुख्यालय से लगभग 53 किलोमीटर की दूरी पर है। दुनिया के पहले सफेद शेर को सबसे पहले रीवा के राजा मार्तंड सिंह ने 1951 में मुकुंदपुर में देखा था। और अब यहा दुनिया की पहली व्हाइट टाइगर सफारी खुल चुकी है। यहां बंगाल टाइगर, लॉयन , पैंथर्स और सबसे कीमती सफेद टाइगर है।

व्हाइट टाइगर सफारी मुकुंदपुर Satna

ꪜजगतदेव तालाब मंदिर

यह सतना रेलवे स्टेशन से लगभग 600 मीटर की दूरी पर स्थित शिव मंदिर है। यह शहर के शांतिप्रिय जगहों में से एक है।

ꪜआर्ट आईचॉल

यह सतना मुख्यालय से लगभग 10 किलोमीटर की दूरी पर स्थित आवासों को बढ़ावा देने के लिए एक मंच हैं।आर्ट आईचोल कौशल विकास और सामुदायिक भवन की सुविधा भी प्रदान करता है।

ꪜकर्दमेश्वर धाम

यहां पर बहुत ही प्राचीन कर्दमेश्वर भगवान का मंदिर है। जो की पहाड़ियों पर स्थित है। साथ ही यहां एक ऐसा गोमुख है।जहा साल के 12 महीने पानी बहता रहता है। क्योंकि मंदिर का कैंपस पूरी तरह प्राकृतिक है,तो पर्यटक यहां पर पिकनिक मनाने आते हैं।

ꪜधारकुंडी आश्रम

यह सतना मुख्यालय से लगभग 60 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। धारकुंडी में प्राकृतिक और अध्यात्म मिलन देखने को मिलता है।सतपुड़ा के पठार की विद्यांचल पर्वत यहां से देखने को मिलती है। माना जाता है कि महाभारत काल में युधिष्ठिर और दक्ष का संवाद इसी कुंड में हुआ था। धारकुंडी दो शब्दों से मिलकर बना है। जल की धारा।

ꪜपशुपतिनाथ मंदिर

सतना मुख्यालय से लगभग 4.6 किलोमीटर की दूरी पर है। सतना के प्राचीनतम मंदिर में से एक हैं।शिवलिंग और नंदी भगवान की विशाल मूर्ति स्थापित है शिवरात्रि में श्रद्धालुओं का मेला यहां लगता है ।

ꪜभरहुत स्तूप

सतना जिले में स्थित एक बौद्ध स्थल बौद्ध स्तूप और कलाकृतियों के लिए प्रसिद्ध है।यहां का स्तूप पुष्यमित्र शुंग द्वारा निर्मित किया गया था। 1873 ईसवी में इस स्थल का पता लगाया।सतना शहर से लगभग 16 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

ꪜ वेंकटेश्वर मंदिर

यह मंदिर सतना जिले से 1 किलो मीटर की दूरी पर स्थित है। मंदिर में वेंकटेश्वर भगवान विराजमान है।

ꪜबिरला हॉस्पिटल और बिरला मंदिर

184 बिस्तर वाला हॉस्पिटल बिलोना का बहुत ही बड़ा हॉस्पिटल है। वहां का स्ट्रक्चर देखने योग्य है। पत्थरों में यहां अच्छी सजावट की जाती है। साथी नवरात्रों में यहां पर मेला लगता है।

ꪜ दादा सुखेंद्र सिंह स्टेडियम

सतना रेलवे स्टेशन से लगभग 2 किलोमीटर की दूरी पर है। यहां पर कई सारे स्पोर्ट्स,स्विमिंग पूल, बैडमिंटन और कई तरह के खेल गतिविधियां होती रहती हैं। यहां पर आप घूमने जा सकते हैं।

ꪜ साईं मंदिर

यह मंदिर रेलवे स्टेशन से लगभग 2 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इस मंदिर में साईं भगवान के साथ-साथ कई दूसरे भगवान विराजमान है। श्रद्धालुओं की भीड़ हमेशा लगी रहती।

ꪜ बटेश्वर नाथ मंदिर

सतना मुख्यालय से 8 किलोमीटर की दूरी पर भगवान बटेश्वर नाथ का मंदिर है। यहां बटेश्वर नाथ नदी के बीचों बीच विराजमान है। प्रत्येक रविवार यहां पर भंडारा होता है। साथ ही यहां पर श्रद्धालुओं की भीड़ लगी रहती है।

जिला सतना Satna tourist places in hindi FAQ’s

➊ सतना जिले से कौन सी नदी निकलती है।
तमसा

➋ सतना जिले की मैहर तहसील को किस नाम से जाना जाता है।
संगीत नगरी

➌ मैहर में कौन सी माता का मंदिर सबसे प्रसिद्ध है।
मां शारदा माता मंदिर

➍ सतना जिले के चित्रकूट में कौन सा संग्रहालय स्थित है।
रामायण संग्रहालय

➎ चित्रकूट कौन सी नदी के किनारे बसा हुआ है।
मंदाकिनी

Website Home ( वेबसाइट की सभी पोस्ट ) – Click Here
———————————————————-
Telegram Channel Link – Click Here
Join telegram

Leave a Comment