SBI लोन क्यों नहीं लेना चाहिए ? SBI Loan Kyu Nhi Lena Chahiy

SBI/एसबीआई लोन की संपूर्ण जानकारी –

दोस्तों आज मैं आपको बताने वाला हूं एसबीआई लोन के बारे में महत्वपूर्ण बातें एसबीआई लोन क्यों नहीं लेना चाहिए? क्या कारण है कि एसबीआई लोन लेने से लोग डरते हैं घबराते हैं? एसबीआई लोन लेने से पहले लोग सौ बार सोचते हैं कि आखिर क्या होगा ?यदि हम एसबीआई लोन लेते हैं तो, State Bank of India  जब लोन देती है तो उसकी क्या शर्ते होती हैं जिनको लोग मानने से इनकार कर देते हैं लोगों के मन में डर पैदा हो जाता है | स्टेट बैंक ऑफ इंडिया किस लिए लोन देती है ? कौन लोग स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से लोन लेने के पात्र होते हैं ? ऐसे कौन से लोग हैं जिनको स्टेट बैंक ऑफ इंडिया लोन देने से डरती है ? स्टेट बैंक ऑफ इंडिया लोन देने के बाद कितने प्रतिशत ब्याज लेती है?

आज हम स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्यों के बारे में चर्चा करेंगे जिनमें मुख्य रुप से लोन के संबंध में हर तरह की बात को आपके सामने उजागर किया जाएगा | दोस्तों बैंकों के पास आय का सबसे बड़ा स्रोत उनको मिलने वाला ब्याज ही होता है जिसको वह लोगों को दिए गए लोन पर ही वसूल करते हैं | दोस्तों जिस तरीके से हमारा बैंक एसबीआई बैंक, ऑफ बड़ौदा ,पंजाब नेशनल बैंक आदि तमाम बैंक के हैं ठीक उसी प्रकार बैंकों का भी बैंक आरबीआई बैंक है जिसे रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया भी कहते हैं | दोस्तों रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया इन छोटी-मोटी सभी बैंकों का बैलेंस बनाए रखती है | जब स्टेट बैंक ऑफ इंडिया और बैंक ऑफ बड़ौदा आदि सभी बैंकों के पास पैसा नहीं होता है तब यह बैंक के रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया से पैसा लेने की अपेक्षा रखती हैं |

SBI लोन क्यों नहीं लेना चाहिए?

दोस्तों ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से हमें लोन नहीं लेना चाहिए लेकिन कभी-कभी शर्तें इस तरीके से होती हैं जिनको पूरा करना असंभव हो जाता है | दोस्तों स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से लोन जल्दी नहीं मिलता प्राइवेट बैंकों के मुकाबले इसीलिए हमें स्टेट बैंक से लोन नहीं लेना चाहिए | दोस्तों स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से लोन मिलने की बहुत बड़ी प्रोसेस होती है जिसके लिए आपको समय पर लोन उपलब्ध भी नहीं हो पाता | जबकि प्राइवेट बैंक में लोन देने के मामले में बहुत आगे होते हैं अथवा प्राइवेट बैंकों की लोन प्रोसेस बहुत तेज होती है |

  • दोस्तों आपकी सैलरी ₹15000 से कम नहीं होना चाहिए और आप केंद्र का अथवा राज्य सरकार का कर्मचारी होना चाहिए |
  • समान मासिक आय और नेट मासिक आय का अनुपात 50% से कम होना चाहिए|
  • स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से लोन लेने से संबंधित जितनी भी कंडीशन अथवा शर्तें हैं यदि यह शर्तें आपके पास होती हैं तो आप लोन ले सकते हैं अन्यथा आपको  नहीं लेना चाहिए |
  • यदि आपके पास स्टेट बैंक ऑफ इंडिया का सैलरी अकाउंट नहीं है तो भी आपको स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से लोन नहीं लेना चाहिए |

SBI पेंशन भोगियों को देगी  पर्सनल लोन—-

  • दोस्तों स्टेट बैंक ऑफ इंडिया पेंशन भोगियों को भी पर्सनल लोन देती है जिसकी कुछ शर्तें पेंशन भोगियों के लिए जरूरी होती हैं|
  • पेंशन भोगियों के लिए एसबीआई लोन संबंधित आवश्यक शर्तें-
  • State Bank of India से पेंशन भोगियों के लिए लोन लेने के लिए उनकी आयु 76 वर्ष से कम  होना चाहिए |
  • दोस्तों पेंशन भोगियों का पेंशन अकाउंट स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में ही होना चाहिए |
  • पेंशन रोगियों का पेंशन अकाउंट किसी अन्य बैंक में नहीं होना चाहिए |

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया लोन लेने से पहले आवेदक का एक सहमति पत्र होना चाहिए जिसमें लोन की अवधि के दौरान उसका पेंशन अकाउंट एसबीआई बैंक में ही होना चाहिए अर्थात लोन अवधि के दौरान पेंशन अकाउंट किसी अन्य बैंक में ट्रांसफर नहीं किया जाना चाहिए |

लोन के ब्याज से परेशान लोग-

दोस्तों किसी भी बैंक के द्वारा लोन प्राप्त करना कोई ज्यादा बड़ी बात नहीं है लेकिन लोन मिलने के बाद लोन को वापस करना बहुत बड़ा मुद्दा होता है | दोस्तों विदेशों में मिलने वाला लोन लगभग तीन या चार प्रतिशत पर दिया जाता है लेकिन हमारे यहां 8% से कम लोन किसी को नहीं दिया जाता | दोस्तों हम कई बार सोचते हैं लोन की इतनी ज्यादा राशि मिलने के बाद हम उन्हीं पैसों के द्वारा पैसों को कमा सकते हैं लेकिन कभी-कभी हम अपने मिशन में फेल हो जाते हैं जिस कारण से हम लोन नहीं चुका पाते और हमें कहीं ना कहीं बहुत बड़ी बड़ी परेशानियों का सामना करना पड़ता है | दोस्तों यदि आप किसी भी बैंक के द्वारा लोन प्राप्त करना चाहते हैं तो आपको लोन के ब्याज से नहीं घबराना चाहिए आपको पूरा भरोसा होना चाहिए कि आप लोन के ब्याज को चुका पाएंगे  |

लोन लेते वक्त सबसे बड़ी गलती???

दोस्तों लोन लेने से पहले कई लोग सबसे बड़ी गलती यह करते हैं की लोन की शर्तों को जाने बिना लोन की फील्ड में सीधे कुंद पड़ते हैं| दोस्तों यही गलती हमारे लिए आगे जाकर बहुत बड़ा खतरा बन जाती है जिस कारण से हम अपने जीवन में बहुत ज्यादा निराश भी हो जाते हैं | दोस्तों भारत में 70% से अधिक लोग ऐसे हैं जो लोन को लेते हैं परंतु उनके पास लोन संबंधित नॉलेज नहीं होता है जिस कारण से वो कई सालों तक लोन चुकाते रहते हैं और बैंकों के कर्जदार बने रहते हैं | दोस्तों कभी कभी कई लोग लोन के ब्याज को समझ ही नहीं पाते कि आखिर बैंक किस तरीके से हम से ब्याज लेती है | दोस्तों कई बार 4000000 रुपए लोन पर हम लेते हैं और कई सालों तक इसका ब्याज चुकाते  रहते हैं और इसकी मूल धनराशि हमेशा बनी रहती है |

Selection OF BANK FOR LOAN –

दोस्तों कई बार क्या होता है लोन लेने से पहले हम अपने आसपास के पड़ोसियों से इंटरनेट से अथवा यूट्यूब से किसी से भी थोड़ा बहुत बैंकों के बारे में जानकारी लेते हैं जो कभी-कभी हमें गलत जानकारी मिल जाती है | दोस्तो इंटरनेट पर हजारों दो हजारों तरह की जानकारी बताते हैं तो उनमें से क्या हजारों जानकारी सही हो सकती है जी नहीं ऐसा बिल्कुल भी नहीं हो सकता | सब लोग अपने अपने तरीके से अपना अपना अनुभव पेश करते हैं जिनमें से बहुत सी चीजें ऐसी होती हैं जो गलत आ जाती है | 

लोन की फैसले कभी भी जल्दबाजी में नहीं करना चाहिए क्योंकि यह आने वाले समय में आप की सेविंग को बचा सकते हैं | दोस्तो आज के जमाने में सबके पास एंड्रॉयड मोबाइल होता है जिसकी मदद से आप कम से कम 10 -15 बैंकों में पता लगा सकते हैं और इंटरनेट पर भी जानकारी ले सकते हैं | जब आपको पूरी तरीके से जानकारी मिल जाए और आप संतुष्ट हो जाएं इसके बाद ही किसी बैंक का चुनाव करें और पूरी कंडीशन को जानकर ही किसी बैंक से लोन प्राप्त करें |

हमेशा अच्छे लोन की तलाश करना-

दोस्तों आपको जरूरत है अपने सभी डॉक्यूमेंट को एकत्रित कर जितने डॉक्यूमेंट किसी लोन को प्राप्त करने के लिए उपयोग में लिए जाते हैं उनको लेकर आप बैंकों में पता लगा जा सकते हैं उनसे पूछ सकते हैं कि आखिर मेरे लिए लोन का कौन सा बेस्ट ऑप्शन रहेगा | मुझे कितने प्रतिशत पर लोन मिल सकता है और मेरे लिए क्या बेस्ट रहेगा| दोस्त लोगों की सबसे बड़ी गलती होती है कि एक बार लोन लेने के बाद वह अगली बार किसी भी तरीके से लोन के बारे में कोई अपडेट का पता नहीं लगाते हैं | दोस्त लोन लेने के बाद लोग कई साल तक लोन के ब्याज को चुकाते रहते हैं और अंत में कहीं ना कहीं निराश भी रहते हैं | दोस्तों आपको सबसे ज्यादा जरूरत है लोन लेने के बाद अलग-अलग बैंकों में 1 से 2 साल के अंदर लोन के बारे में किसी नए ऑप्शन की तलाश करना नई जानकारी को हासिल करना कि आपके लिए क्या बेहतर है |

लोन का कार्यकाल –

दोस्तों लोन लेने से पहले लोन के कार्यकाल के बारे में जरूर डिसाइड कर लेना चाहिए कि आखिर हम कितने दिन के लिए लोन ले रहे हैं अथवा कितने साल के लिए ले रहे हैं | दोस्तों कई बार क्या होता है बहुत से लोग लोन के समय को लेकर ज्यादा सीरियस नहीं होते हैं और कितने साल के लिए लोन लेने हैं इसके बारे में इग्नोर ही कर देते हैं | दोस्तों लोन के समय को ध्यान में ना रखने के कारण वह कितनी बड़ी परेशानियों को उठा सकते हैं इसके बारे में उनको कोई जानकारी भी नहीं होती |

दोस्तों कभी कभी 20 साल की जगह 30 साल के लिए लोग लाखों रुपए लोन पर ले लेते हैं जिस कारण से भी कम से कम 40 लाख तक का नुकसान उठा लेते हैं | दोस्तों सोचिए जरा एरिया यदि आप 50 लाख की लोन लेते हैं इसका ब्याज आपको 10% लगता है तो आपको 40 साल बाद 10800000 रुपए केवल ब्याज तक का लग जाता है वहीं दूसरी तरफ अगर आप 20 साल के लिए ब्याज लेते हैं तो आपको ₹42000 कम ब्याज लगता है | दोस्तों 10 साल के डिफरेंस में ₹42000 का फालतू का ब्याज लग जाता है जिसके बारे में किसी को कोई खबर तक नहीं होती ना ही इसके बारे में कोई कभी विचार करता है |

दोस्तों लोन लेने से पहले एक बार हमें लोन की समय सीमा पर जरूर ध्यान देना चाहिए कि हम कितने दिन के लिए लोन ले रहे हैं अथवा कितने साल के लिए लोन ले रहे हैं | दोस्तों लोन हमें अपनी सैलरी के अनुसार ही लेना चाहिए जितना कि हम सैलरी का 60% किस्त के रूप में भरकर और 40% हिस्सा बचा कर फैमिली का खर्चा निकाल कर यदि चला लेते हैं तो हमें इसी प्रकार से लोन लेना चाहिए |

क्या करें कि EMI बाउंस न हो—-

दोस्तों के लोन लेने से पहले हमें ईएमआई के बारे में जरूर सोचना चाहिए यदि हम समय पर किस्त जमा नहीं कर पाते हैं तो हमें पेनाल्टी भी लग जाती है | दोस्तों लोन लेने से पहले यदि आप अपनी सैलरी की कुछ प्रतिशत हिस्सा ईएमआई को निकाल कर घर का खर्चा चला कर भी कुछ सेविंग कर पाते हैं तो आपके लिए बहुत अच्छा रहेगा | यदि आप समय से किस्त नहीं भर पाते तो आप धीरे-धीरे बहुत बड़ी परेशानी में भी फस सकते हैं | दोस्तों यदि आप समय से करता नहीं भर पाते हैं तो आपका बैंक के साथ लेनदेन का व्यवहार खराब हो जाएगा |

दोस्तों यदि एक बार आपका बैंक से लेनदेन व्यवहार खराब हो गया अथवा रिकॉर्ड खराब हो गया तो आप अगली बार या फिर किसी अन्य बैंक के थे लोन लेने में परेशान हो सकते हैं | आपका रिकॉर्ड खराब होने के कारण कोई भी बैंक आपको लोन नहीं दे सकती | दोस्तों किसी कारण से अगर आपने किसी अन्य बैंक से लोन लेने के लिए वाद्य कर लिया तो वह बैंक आपसे अन्य बैंकों की तुलना में कहीं अधिक मात्रा में ब्याज लेगी | दोस्तों बैंक की कंडीशन को कई बार हम लोग फॉलो नहीं करते जिस कारण से जितनी हमारी हैसियत किस्त जमा करने की होती है उससे कहीं ज्यादा का लोन बैंक हमें प्रोवाइड करा देती है जिस कारण से हम कई सालों तक बैंक का ब्याज ही भरते रहते हैं |

लोन की किस्त समय पर चुकाएं-

दोस्तों कई बार क्या होता है हम शुरुआत में बैंक की खेतों को भरते रहते हैं लेकिन कभी-कभी लोन की किस्त को इग्नोर कर देते हैं जैसे कि अगली बार करेंगे | दोस्तों अगली बार जब दो किस्तों को एक साथ भरते हैं तो आप को पेनाल्टी तो लगती ही है लेकिन आप का रिकॉर्ड भी धीरे-धीरे खराब होने लगता है |

दोस्तों यदि आप बैंक के साथ अच्छे व्यवहार और अच्छे संबंध बनाए रखना चाहते हैं तो आप अपनी किस्त को समय अनुसार भरें | लोन लेने से पहले आपको 100 बार सोचना है  कि आप जितनी EMI भर सकते हैं उतना ही लोन प्राप्त करें क्योंकि बैंक हमेशा आपकी ईएमआई की हैसियत से अधिक का लोन प्राप्त करवा देती है |

          दोस्तों शायद आपको पता नहीं होगा आप जब भी किसी बैंक से कोई भी लेनदेन करते हैं तो एक बैंक के अलावा भी आपका सारा डाटा अन्य बैंकों के पास भी हो सकता है | दोस्तों जब आप किसी बैंक से लोन प्राप्त करते हैं और बैंक के साथ संबंध खराब हो जाते जैसे कभी एमआई नहीं भर पाते हैं इस प्रकार की सारी इनफार्मेशन उच्च स्तर पर भेज दी जाती है | आपने पिछली बार बैंक के लेनदेन कब किया था आपने ईएमआई कब से नहीं भरी है पूरी इंफॉर्मेशन उच्च स्तर पर भेज दी जाती है |

दोबारा लोन कैसे प्राप्त करें??

दोस्तों एक बार जब आप किसी बैंक से लोन प्राप्त कर लेते हैं और फिर जब आप दूसरी बार किसी अन्य बैंक से लोन लेने के बारे में सोचते हैं तो आप लोन प्राप्त करने में कई परेशानियों को अपने सामने खड़ा पाते हैं | कई बार हमें दूसरी बार लोन प्राप्त नहीं हो पाता क्योंकि हो सकता है हमारा पुराना रिकॉर्ड जैसे हमने पिछली बार कौन सी बैंक से लोन लिया था हमारा उस बैंक के लेनदेन कैसा रहा | जब कोई अन्य बैंक हमें लोन देती है तो लोन देने से पहले हमारे बारे में पूरी इंफॉर्मेशन कंपनी से मांगती है जैसे हमारा ईएमआई भरने का समय कैसा रहा प्रत्येक ईएमआई को हमने समय पर भरा है कि नहीं| हमारी ईएमआई बाउंस तो नहीं हुई है हमने अंतिम बार बैंक के  लेन देन कब किया था | बैंक के द्वारा मांगी गई जानकारी में यदि हमारा रिकॉर्ड पूरी तरीके से सही है तो ही बैंक हमें दूसरी बार लोन देने के बारे में सोच सकती है अन्यथा यदि हमारा रिकॉर्ड खराब है तो बैंक हमें कभी भी लोन प्रोवाइड नहीं कराती है |

Website Home ( वेबसाइट की सभी पोस्ट ) – Click Here
———————————————————-
Telegram Channel Link – Click Here
Join telegram

Leave a Comment